breaking news New

‘छींक-छींककर वायरस फैला दो’ लिखने वाले कर्मचारी को इंफोसिस ने हटाया, पुलिस ने गिरफ्तार किया

‘छींक-छींककर वायरस फैला दो’ लिखने वाले कर्मचारी को इंफोसिस ने हटाया, पुलिस ने गिरफ्तार किया

बेंगुलुरू, 28 मार्च। इंफोसिस के एक कर्मचारी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. मुजीब मोहम्मद नाम के इस कर्मचारी ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर लोगों से कोरोना वायरस फैलाने को कहा था. उसने लिखा था, ‘आइए हाथ मिलाएं, बाहर जाएं और छींक-छींककर वायरस फैला दें.’ मुजीब बेंगुलुरु में काम करता था. संयुक्त आयुक्त (क्राइम ब्रांच) संदीप पाटिल ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि की है. उधर, इंफोसिस ने भी मुजीब को निकाल दिया है. उसका कहना है कि इस तरह की पोस्ट कंपनी के उसूलों के खिलाफ है और ऐसे मामलों में उसकी जीरो टॉलरेंस की नीति है.

इससे पहले इंफोसिस तब चर्चा में आई थी जब इसी महीने की शुरुआत में एक कर्मचारी के कोरोना वायरस से संक्रमित होने के संदेह में उसने अपने दफ्तर की एक इमारत खाली कर दी थी. बेंगुलुरू में कंपनी का विशाल कार्यालय है. कर्नाटक में कोरोना वायरस के 64 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और इस बीमारी (कोविड-19) से तीन लोगों की मौत हो चुकी है.

उधर, शुक्रवार को भारत में कोरोना वायरस संक्रमण यानी कोविड-19 के मरीजों की संख्या में अब तक की सबसे तेज बढ़ोतरी दर्ज हुई. 24 घंटे में ही इस बीमारी के 110 मामले सामने आ गए. इसके साथ ही कोरोना वायरस की चपेट में आए लोगों का आंकड़ा 834 हो गया है. 19 लोग इसके चलते दम तोड़ चुके हैं. जानकारों का मानना है कि अब भारत में इस बीमारी का तीसरा चरण शुरू होने वाला है जिसे कम्युनिटी ट्रांसमिशन यानी सामुदायिक संक्रमण कहा जाता है. पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से मौतों का आंकड़ा 27 हजार को पार कर चुका है.

भारत में कोरोना वायरस से संक्रमण को रोकने के लिए घोषित राष्ट्रव्यापी लॉकडान का आज चौथा दिन है. इस दौरान जरूरी सेवाओं को छोड़कर सब कुछ स्थगित है. स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि अभी कोरोना वायरस के टीके यानी वैक्सीन को विकसित करने में कम से कम 12 महीने से 18 महीने का वक्त लगेगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पूरी दुनिया से इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में एक होने की अपील की है. इस महामारी से दुनिया में आर्थिक मंदी गहराने की प्रबल संभावना है. इसे देखते हुए जी20 देशों ने ऐलान किया है कि वे इसका मुकाबला करने के लिए पांच ट्रिलियन डॉलर खर्च करेंगे.