breaking news New

कोरोना संक्रमित मरीजों के जांच में लापरवाही, संक्रमण बढने का खतरा, लैब लगाने भाजपा ने की मांग

कोरोना संक्रमित मरीजों के जांच में लापरवाही, संक्रमण बढने का खतरा, लैब लगाने भाजपा ने की मांग

 

वेंटिलेटर चालू करने और कोविड जांच के लिए  लैब लगाने भाजपा ने की मांग

सूरजपुर। प्रदेश में कोरोना महामारी रुकने का नाम नही ले रहा है। तो वही जिले में लग़ातर संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था बेहतर नही होने के कारण समीप के जिला सरगुजा के मेडीकल कॉलेज में लोगों भेजा जा रहा है। इसी कड़ी में जिले में वेंटिलेटर होने के बाद भी चालू नही होने इसके साथ ही कोविड टिका में बढोतरी कर गति तेज करने सहित अन्य मागों को लेकर बीजेपी जिला अध्यक्ष बाबू लाल अग्रवाल ने दो अलग अलग दिन प्रशासन को ज्ञापन शौपा है।

भाजपा ने आरोप लगाया है कि सूरजपुर जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के जांच में लापरवाही बरतने तथा  आरटीपीसीआर की रिपोर्ट चार से छ:दिनों में आने के कारण मरीज में संक्रमण का खतरा बढने के साथ साथ कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार अन्य व्यक्तियों में फैल रहा है| आगे कहते है कि  अम्बिकापुर में एकमात्र वायरोलाजी लैब पर पूरे संभाग के सैंपल के जांच का दबाव होने के कारण सूरजपुर जिले के सैंपल की जांच रिपोर्ट चार से छ दिनों तक नही मिल रहा है। जिसे संक्रमित व्यक्ति में संक्रमण तेजी से फैलने का खतरा बढ़ता जा रहा है तथा मरीजों के ईलाज में हो रही देरी मौत का कारण बन सकती है।


 उन्होंने मांग की है कि सूरजपुर जिले में कोरोना जांच के वायरोलाजी लैब की स्थापना की जाए ताकि लक्षण व गैर लक्षण के व्यक्तियों के कोरोना जांच शीघ्रता से हो सके। भाजपा जिलाध्यक्ष बाबूलाल अग्रवाल ने कहा कि जिले टीकाकरण केन्द्रों मे कोविड वैक्सीन की कमी के कारण टीकाकरण का काम बुरी तरह प्रभावित हो रहा है तथा जिला मुख्यालय में एकमात्र टीकाकरण सेन्टर होने से टीकाकरण की रफ़्तार धीमी है इसलिए मुख्यालय में और टीकाकरण केन्द्रों की स्थापना करने की मांग की है।


वहीँ भाजपा जिला अध्यक्ष श्री अग्रवाल ने आगे कहा कि सूरजपुर जिला अस्पताल में पिछले कई महीनों से 6 नग वेंटिलेटर आकर पड़े हुए है जिन्हें आज तक चालु नही किया गया है, सीएमओं डॉ आर एस सिंह से बात करने पर ज्ञात हुआ कि मेडिसिन डिपार्टमेंट की लापरवाही से उक्त वेंटिलेटर प्रारम्भ नही हो सके हैं।


जबकि विभाग के टेक्नीशियन 2 बार रायपुर जाकर प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके हैं। वर्तमान में कोरोना की स्थिति देश व प्रदेश के साथ  जिले  में भी भयावह हो गई है। व्यवस्था होने के बाद भी जिले के लोगों को उक्त सुविधा का लाभ नही मिल पा रहा। सूरजपुर जिला अस्पताल से गंभीर होने पर पेसेंट को रेफर कर दिया जा रहा है। वर्तमान परिवेश में किसी भी हॉस्पिटल में  बेड खाली नही हैं और पेसेंट को किसी भी स्थिति में किसी भी हॉस्पिटल में कोई एडमिट करने को  अन्य जिलों के अस्पताल तैयार नही है इन परिस्थितियों में सूरजपुर जिले में वेंटिलेटर का बन्द पड़े रहना दुर्भाग्यपूर्ण है। जो कि घोर लापरवाही का घोतक है। जिला अस्पताल प्रबंधन को जल्द वेंटिलेटर सुविधा उपलब्ध कराने को कहा अन्यथा की स्थिति में आंदोलन को बाध्य होने की बात कही है।