breaking news New

लक्ष्मी स्व सहायता समूह सचिव पर 6 लाख गबन करने का आरोप,एसडीएम से शिकायत

लक्ष्मी स्व सहायता समूह सचिव पर 6 लाख गबन करने का आरोप,एसडीएम से  शिकायत

भानुप्रतापपुर। ग्राम पंचायत करमोती संचालित पीडीएस लक्ष्मी स्व सहायता समूह की  महिलाओं ने सचिव पर गबन का आरोप लगाया है।   समूह के सचिव ने बिना प्रस्ताव व जानकारी के  राशि 6 लाख 1 हजार 379 रुपए  बैंक से आहरण किया है।  जिसका शिकायत कर महिला समूह ने एसडीएम से कार्यवाही की मांग की है।

सोमवार को एसडीएम कार्यालय पहुंच कर महिला समूह के सदस्य फूलवती तारम, राजकुमारी,लक्मी कुलदीप, पूनम , ईश्वरीय, सीता, उर्मिला, बनवासा,ललिता, सीमा, सागरो, नगेशर,सियावती, मानकुंवर आदि महिलाओं ने जानकारी देते हुए बताया कि समुह के प्रस्ताव व जानकारी के बिना समुह की राशि गबन कर लिया गया है इस संबंध में आज एसडीएम कार्यालय में शिकायत किया गया।

उन्होंने कहा कि हमारे समुह के अध्यक्ष पुनम मंडावी , सचिव ईश्वरी दुग्गा हमारे द्वारा ग्राम करमोती शासकीय खाद्यान वितरण प्रणाली के अंतर्गत सोसायटी का संचालन किया जा रहा है । 

उक्त खाद्यान वितरण राशन दुकान में समुह के सहमति से समूह के सदस्य बिना सलाम पति हेमन्त सलाम को संचालन हेतु वर्ष 2012 से नियुक्त किया गया है । जो आज पर्यन्त तक दुकान का संचालन उसके द्वारा किया जा रहा है । 

उक्त महिला लक्ष्मी स्व सहायता समूह के संचालन के लिये शासन द्वारा विभिन्न मदो में राशि का भुगतान किया जाता रहा है,जो समुह के खाता ग्रामीण बैंक शाखा संबलपुर खाता कं . 0000005010078504 में जमा होता रहा है । 

उक्त खाते से  बिना सलाम द्वारा समुह के अन्य सदस्यों को बिना जानकारी दिये एवं समुह के प्रस्ताव पंजी में धोखाधड़ी से सदस्यों का हस्ताक्षर लेकर दिनांक 03/02/2017 को 11900 / - रूपये दिनांक 13 / 11 / 2018 को 66000 / - रूपये . दिनांक 20 / 08 / 2019 को 14000 / - रूपये दिनांक 17/08 / 2020 को 48000 / - रूपये , दिनांक 08/09/2021 को 22179 / - रूपये तथा 29 / 11 / 2021 को 156000 / - रुपये इस तरह कुल 318079 / - रूपये व्यक्तिगत रूप से आहरण कर लिया गया है । 

महिलाओं कहा कि  उक्त राशि के आहरण पश्चात् समुह के किसी भी सदस्य को आय - व्यय के संबंध में कभी भी कोई भी सूचना व जानकारी न दिया गया है ।

समुह के अध्यक्ष सचिव कम पढे लिखे होने के कारण बिना सलाम द्वारा कभी भी बहला फुसलाकर प्रस्ताव पंजी में घर घर जाकर हस्ताक्षर करवा लिया जाता था । वर्तमान के नियुक्त अध्यक्ष सचिव साक्षर व कुछ पढ़े लिखे होने से उक्त गबन के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई है।सदस्य बिना सलाम द्वारा छलपूर्वक व बिना जानकारी के गबन किया गया है।