breaking news New

मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने किया "काव्य संग्रह पुस्तक का विमोचन

मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने किया

   सक्ति।  छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री भुपेश बघेल इन दिनो लगातार   प्रदेश का दौरा कर रहे है  बघेल के दो दिवसीय रायगढ़ दौरा कार्यक्रम के अवसर पर शक्ति निवासी अन्नपूर्णा कुमार के द्वारा आहुति कविताओं की कॉपी की लेखिका के द्वारा काव्य सुना कर और उनकी लिखी हुई पुस्तक का विमोचन मुख्यमंत्री के हाथों होने से शक्ति नगर वासियों में खुशी की लहर दौड़ गई प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल    आयोजित  आमसभा को सम्बोधित किया   जिसमें उन्होंने जन मानस और जिला के विकास को ध्यान में रखते हुए जिला को अनगिनत सौगाते दी है जिसके बाद जनता का भुपेश सरकार के प्रति विश्वास   और भी मजबुत हो गया इसी दौरान मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने सर्किट हाउस में आम जनता  समाजिक संगठन की गुहार को भी गम्भीरता से लिया है इसी कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ जांजगीर जिला के सक्ती  निवासी प्रदेश की लोकप्रिय उभरती युवा कवित्री अन्नपुर्णा पवार पुत्री श्री भगवती प्रसाद पवार जो कि भाटापारा में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामसागर पारा मे व्याख्याता के पद पर कार्यरत है   द्वारा लिखी गई  राष्ट्रवाद , नारीवाद , समाजवाद , युवा उत्प्रेरण  ,  पर आधारित काव्य संग्रह " आहुति कविताओं की "

 नामक पुस्तक का मुख्यमंत्री के द्वारा विमोचन किया गया एवं प्रथम प्रति उन्हें भेंट स्वरूप दी गई।  छत्तीसगढ़ की नई उभरती हुई लेखनी की धनी   भाटापारा में अंग्रेजी विषय के व्याख्याता पद पर कार्यरत है  परंतु मातृभाषा हिंदी की सेवा करती हुई युवा कवित्री अन्नपूर्णा पवार " आहुति " का नवीन काव्य संग्रह जिसमें राष्ट्र यज्ञ की आहुति में कई ज्वलंत मुद्दों पर लिखी गई कविताओं की आहुति दी गई है शीर्षक आहुति कविताओं  का माननीय छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा दिनांक दो जनवरी को छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक धानी रायगढ़ नगर के सर्किट हाउस में जनसामान्य के उपस्तिथि  में विमोचन किया गया इस अवसर पर प्रदेश के खेल युवा कल्याण उच्च शिक्षा मंत्री उमेश नंदकुमार पटेल , रायगढ़ विधायक प्रकाश शक्राजीत नायक , लैलुंगा विधायक चक्रधर सिंह सिदार  रायगढ कलेक्टर भीम सिंह , एव गणमान्य नागरिकों की उपस्थिति रही है विमोचन के इस गरिमामय कार्यक्रम के दौरान अपने उद्गार व्यक्त करते हुए माननीय मुख्यमंत्री ने 

" आहुति कविताओं की " काव्य संग्रह की लेखिका  अन्नपूर्णा पवार  को शुभकामनाएं देते हुए उनके इस प्रयास की सराहना करते हुए उन्हें इसी भांति  राष्ट्रहित की अलख जगाने हेतु लिखते रहने की प्रेरणा  दी।