breaking news New

भाजपा की आर्थिक प्रकोष्ठ की प्रथम कार्यसमिति की बैठक संपन्न

भाजपा की आर्थिक प्रकोष्ठ की प्रथम कार्यसमिति की बैठक संपन्न

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर स्थित कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में रविवार को भारतीय जनता पार्टी की आर्थिक प्रकोष्ठ की प्रथम कार्यसमिति की बैठक सम्पन्न हुई। इस बैठक में छत्तीसगढ़ की आर्थिक बदहाली पर चर्चा हुई। साथ ही जनता को इस विषय पर जागरूक करने की रणनीति भी बनाई गई। इसके अलावा केंद्र की मोदी सरकार द्वारा किए कार्यों पर विस्तार से चर्चा की गई।

बैठक के भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार कुर्सी दौड़ खेलने में व्यस्त है। ये जनता का काम क्या करेगी। इस सरकार में सिर्फ  संवाद नहीं विवाद ही विवाद है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की राज्य सरकार वित्तीय अनियमिताओं, घाटे बनाने का रिकॉर्ड कायम कर रही है। उन्होंने कहा कि जिस हिसाब से सरकार चल रही है पूंजीगत व्यय यानी विकास के काम जो पहले ही घटा दिए गए है। वह न्यूनतम स्तर पर 9.5प्रतिशत पहुुंचने जा रहा है। डॉ सिंह ने कहा कि यह पहली सरकार है, जो नरवा, गरुवा, घुरवा, बाड़ी को अपनी मुख्य योजना बताती है, लेकिन उसे बजट में एक रुपए नहीं देती।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि कांग्रेस ने देश विकास की कभी चिंता नहीं करती है, चाहे वो विकास आर्थिक के क्षेत्र में क्यों न हो। कांग्रेस को अपने आर्थिक विकास की चिंता अधिक रही है। प्रदेश का हाल यह है राज्य के पास विकास कार्यो के लिए पैसे नहीं है, जो भी कार्य हो रहा वह केंद्र के पैसे से हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस प्रदेश में जब से कांग्रेस की सरकार प्रदेश में सत्ता संभल रही है, तब से आर्थिक रूप से कर्जादारी के प्रदेश का पहचान बनती जा रही है।

श्री कौशिक ने कहा कि देश की आजादी के बाद उद्योग मंत्री के रूप में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने आर्थिक मजबूती के औद्योगिक आंदोलन के मजबूत किया। इस समय पर आर्थिक प्रकोष्ठ की जिम्मेदारी इस समय अधिक बढ़ जाती है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आर्थिक नितियों और केन्द्र सरकार की योजना को जनता ले जाये और प्रदेश के असफलता को बताएं। 

पूर्व मंत्री और वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि राज्य सरकार केंद की योजनाएं लागू नहीं कर रही. इसके लिए हम हल्ला बोलेंगे। राज्य सरकार खुद के पैसे से नाली तक नहीं बना पा रही है. बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि जहां मुख्यमंत्री की फोटो नहीं छपती वो योजना वह लागू नहीं करते मतलब उन्हें अपने फोटो से मतलब है जनता से नहीं. उन्होंने कहा काँग्रेस पारदर्शीता नहीं चाहती इसीलिए आज भी डायरेक्ट बेनिफिट बैंक खाते में देने की जगह नकद देने की सोचते है। उन्होंने कहा कि आर्थिक प्रकोष्ठ हर जिले में एक हेल्प डेस्क खोलेगा जिसके द्वारा लोगों की मदद की जाएगी।