breaking news New

मजदुर संगठन मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन ने दिया प्रबंधन को अल्टीमेटम

मजदुर संगठन मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन ने दिया प्रबंधन को अल्टीमेटम

यूनियन के पदाधिकारियो ने अपना बोनस प्रबंधन को लौटाया, दो दिनो में लंबित वेतन नही दिया गया तो संगठन आंदोलन को होगा बाध्य

ठेका श्रमिको व किरंदुल परियोजना अस्पताल के अपोलो स्टाफ के बकाया वेतन का मामला 

बचेली -  हमेशा मजदूर हितों के लिये आवाज़ बुलंद करने वाली मजदूर संगठन मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन (इंटक) ने एक बार फिर गांधी वादी तरीके से बचेली के ठेका श्रमिकों और किरंदुल परियोजना में कार्यरत अपोलो की नर्सिग स्टाफ़ के माह भर से लंबित वेतन पर एन एम डी सी प्रबंधन  को आड़े हाथ लेते हुये उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है |

गौरतलब है एन एम डी सी में नियमित कर्मचारियों के साथ एक बड़ा वर्ग ठेका श्रमिकों का भी है जो उत्पादन और देश के विकास में नियमित कर्मचारियों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर अपना सकारात्मक योगदान दे रहा है | वही किरंदुल परियोजना में कार्यरत अपोलो नर्सिग स्टाफ़ ने भी वैश्विक महामारी के दौर में लगातार विगत दो वर्षों से दिन रात एक कर अपनी सेवाये क्षेत्र को दी | मगर यूनियन के संज्ञान में आया है कि महीने के आधे दिवस बीत जाने के पश्चात भी नर्सिग स्टाफ़ वेतन के समस्या से जूझ रही है वही ठेका श्रमिको को भी लंबित वेतन भुगतान नही हुआ है |

बीते वर्ष भी ठेका श्रमिको के त्यौहार में बोनस को लेकर इंटक ने मोर्चा खोला था और सख्त तौर पर प्रबंधन को हिदायत दी थी कि जो ठेकेदार ठेका श्रमिको वेतन और बोनस में लापरवाही बरतेगा उसे परियोजना में कार्य नही करने दिया जायेगा |

 नवरात्र के समापन के पश्चात तक ठेका श्रमिकों का वेतन उनके खाते में ना पहुचने पर मजदूर संगठन मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन के पदाधिकारी आशीष यादव और देबाशीष पॉल  ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये अपना बोनस प्रबंधन को चेक के माध्यम से लौटते हुये चेतावनी दी है कि आगामी 02 दिवस के भीतर ठेका श्रमिकों  और किरंदुल अपोलो नर्सिग स्टाफ का लंबित वेतन नही दिया गया तो मजदूर संगठन मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन के दोनों पदाधिकारी प्रशासनिक भवन बचेली स्थित बाबा साहब अम्बेडकर की प्रतिमा के सामने भूख हड़ताल पर बैठेंगे |

आशीष यादव ने बताया लगातार विभागाध्यक्षों के संज्ञान में मामले को लाने के बावजूद प्रबंधन की बेरुखी की वजह से मजदूर संगठन ने यह रास्ता इख्तियार किया है | ठेका श्रमिक और नर्सिग स्टाफ सदैव हमारी सहयोगी रही है और समय समय पर संगठन भी इनके हितों की लड़ाई लड़ता रहा है | ऐसे में एक घर मे खुशी का माहौल हो और दूसरे तरफ  आर्थिक तंगी का आलम हो तो हम कैसे खुशी मना सकते है इसी वजह से बचेली मेटल माइंस वर्कर्स यूनियन शाखा के दोनों पदाधिकारीयो ने अपना बोनस चेक प्रबंधन को लौटते हुये प्रबंधन से मांग की है कि आगामी 02 दिनों के भीतर यदि ठेका श्रमिको को बकाया और किरंदुल अपोलो नर्सिग स्टाप को लंबित वेतन नही दिया गया तो संगठन आंदोलन को बाध्य होगी |