कोरोना श्रृंखला में सुप्रसिद्ध कवि ध्रुव शुक्ल की कविताः मन चलने लगता है लोगों साथ

कोरोना श्रृंखला में सुप्रसिद्ध कवि ध्रुव शुक्ल की कविताः मन चलने लगता है लोगों साथ

तन घर में

मन बेघर होकर भटक रहा है बाहर


मन चलने लगता है उन लोगों के साथ

जो सिर पर रखे पोटली भारी

मीलों पैदल चले आ रहे शहर छोड़कर

उनके पाँवों में छाले हैं

उनको रोटी के लाले हैं

लौट रहे अपने गाँवों की ओर

उनके पीछे मौत पड़ी है


मन चलने लगता है उन लोगों के साथ

जो पीस-पीसकर अपना जीवन

दो पाटों के बीच

डूबे रहते इस चिन्ता में

सब अपने घर कैसे लौटें

उनके पीछे मौत पड़ी


मन चलने लगता है उन लोगों के साथ

जो  भाग रहे हैं अपने घर से

बचते फिरते अपने डर से

गलियाँ भरी हुई नफ़रत से

अपने घर वे कैसे लौटें

उनके पीछे मौत पड़ी है