breaking news New

पशु क्रुरता निवारण समिति की बैठक प्रत्येक चार माह में अनिवार्य रूप से आयोजित की जाए-डाॅ. महंत रामसुंदर दास

पशु क्रुरता निवारण समिति की बैठक प्रत्येक चार माह में अनिवार्य रूप से आयोजित की जाए-डाॅ. महंत रामसुंदर दास

राज्य गौ-सेवा आयोग के अध्यक्ष ने अधिकारियों को दिए निर्देश

जगदलपुर।   राज्य गौ-सेवा आयोग के अध्यक्ष डाॅ. महन्त रामसुन्दर दास ने पशुधन को मानव समाज के लिए महत्वपूर्ण सम्पदा एवं सहयोगी बताते हुए पशुधन के संरक्षण एवं संवर्धन तथा उनके सुरक्षा के पुख्ता उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

इसके लिए उन्होंने प्रत्येक चार माह के भीतर अनिवार्य रूप से जिला स्तरीय पशु क्रुरता निवारण समिति की बैठक आयोजित करने के निर्देश भी दिए। डाॅ. रामसुन्दर दास आज कलेक्टोरेट जगदलपुर के प्रेरणाकक्ष में आयोजित जिला स्तरीय पशु क्रुरता निवारण समिति की बैठक में बस्तर जिले में पशु क्रुरता को रोकने तथा पशुओं के सुरक्षा के लिए किए जा रहे उपायों की विस्तृत समीक्षा की।

बैठक में मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष,  एम.आर. निषाद, अपर कलेक्टर  अरविन्द एक्का, वन मण्डल अधिकारी  स्टायलो मंडावी सहित जनप्रतिनिधि एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थेे।

इस बैठक में राज्य गौ-सेवा आयोग ने बस्तर जिले में गौ अभ्यारण के लिए 50 एकड़ जमीन के अलावा जीव-जन्तु, मुक्तिधाम और जीव जन्तु रूगनालय बनाने हेतु जमीन चिन्हांकित करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि कसाई खाना  के संचालन कर्ताओं के पास अनिवार्य रूप से लाईसेंस होना चाहिए।

इसके अलावा पशुवध गृह में परदे की व्यवस्था होना भी आवश्यक है। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को बच्चों को पशुधन की महत्ता की जानकारी प्रदान करने के निर्देश भी दिए। डाॅ. रामसुन्दर दास ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को पशु क्रुरता में संलिप्त वाहनों को राजसात करने की कार्रवाई सुनिश्चित करने तथा मुर्गी को उल्टा लटका कर परिवहन करने वाले व्यापारियों के उपर भी दण्डात्मक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

उन्होंने राजस्व, पुलिस तथा पशुधन वन विभाग के अलावा अन्य संबंधित विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि बस्तर जिले में हर हाल में पशु क्रुरता के रोकथाम के पुख्ता उपाय सुनिश्चित की जाए।