breaking news New

बालको के CEO एवं निदेशक अभिजीत पति को मिला‘मोस्ट प्रॉमिसिंग बिजनेस लीडर ऑफ एशिया’ सम्मान

बालको के CEO एवं निदेशक अभिजीत पति को मिला‘मोस्ट प्रॉमिसिंग बिजनेस लीडर ऑफ एशिया’ सम्मान

बालकोनगर, 18 दिसंबर। भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति को उनके उत्कृष्ट नेतृत्व, औद्योगिक प्रबंधन के विश्वस्तरीय कौशल एवं उत्कृष्टता के लिए प्रतिष्ठित समाचार पत्र द इकोनॉमिक टाइम्स की ओर से ‘मोस्ट प्रॉमिसिंग बिजनेस लीडर ऑफ एशिया’ सम्मान प्रदान किया गया। यह सम्मान ऐसे व्यक्तियों को दिया जाता है जो अपने नेतृत्व कौशल से देश और दुनिया के व्यावसायिक वातावरण को नया आयाम देने में योगदान करते हैं। श्री पति को यह सम्मान इकोनॉमिक टाइम्स की ओर से आयोजित वर्चुअल समारोह में दिया गया। समारोह में एशिया के अनेक प्रतिष्ठित संगठनों के प्रतिनिधियों ने भगाीदारी की।

एल्यूमिनियम धातु विशेषज्ञ के तौर पर श्री पति ने भारतीय एल्यूमिनियम उद्योग को अपने जीवन के 30 बहुमूल्य वर्ष दिए हैं। उनके नेतृत्व में बालको उत्तरोत्तर बुलंदियों की ओर अग्रसर है। नए विचारों और नवाचार को प्रोत्साहित करना, सस्टेनिबिलिटी, डिजिटलाइजेशन जैसे क्षेत्रों में उनकी विशेष रूचि है। सामुदायिक उत्तरदायित्व कार्यक्रम और महिला सशक्तिकरण जैसे क्षेत्रों को उनके दीर्घ अनुभव से काफी लाभ हुआ है।

समारोह में श्री पति ने कहा कि देश में औद्योगिक वातावरण तेजी से बदल रहा है। वैश्विक आर्थिक परिदृश्य को सकारात्मक रूप से बदल पाने की क्षमता के साथ हमारा देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। श्री पति ने कहा कि बालको देश में दुनिया के दूसरे सबसे महत्वपूर्ण धातु एल्यूमिनियम के प्रमुख उत्पादकों में शामिल है। देश को विश्व के एल्यूमिनियम नक्शे में अहम स्थान दिलाने में बालको का उत्कृष्ट योगदान है। एल्यूमिनियम को भविष्य के धातु के तौर पर स्थापित करते हुए बालको ने मूल्यसंवर्धित एल्यूमिनियम उत्पादों के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बनाई है। श्री पति ने कहा कि इकोनॉमिक टाइम्स से मिले सम्मान से देश की सेवा, ग्राहकों और समुदायों के प्रति कटिबद्धता को नई ऊर्जा मिली है।

कलकत्ता विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र श्री पति ने वर्ष 1989 में अपने कैरियर की शुरूआत भारतीय एल्यूमिनियम कंपनी में इंजीनियर के रूप में की। यह कनाडा की प्रमुख एल्यूमिनियम उत्पादक एलकैन की सहयोगी कंपनी है। वर्ष 2008 तक उन्होंने प्रमुख एल्यूमिनियम कंपनियों में उत्कृष्ट ट्रैक रिकॉर्ड के साथ सेवाएं दीं। वर्ष 2008 में श्री पति ने दुनिया के शीर्ष प्राकृतिक संसाधन कंपनी वेदांता समूह की झारसुगुड़ा स्थित ग्रीनफील्ड एल्यूमिनियम एवं पावर कॉम्प्लेक्स में नेतृत्वकर्ता के तौर पर काम शुरू किया।

एक ही स्थान पर दुनिया के सबसे बड़े एल्यूमिनियम उत्पादक इकाई के तौर पर पहचाने जाने वाले झारसुगुड़ा इकाई में काम करते हुए श्री पति को 16 मार्च, 2015 में एल्यूमिनियम व्यवसाय का अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया। उनके नेतृत्व में वेदांता लिमिटेड, झारसुगुड़ा वैश्विक एल्यूमिनियम उत्पादक कंपनियों के प्रतिष्ठित ‘मिलियन टन क्लब’ में शामिल हो गया। श्री पति वेदांता समूह की वरिष्ठ एक्जेक्यूटिव्ह कमिटी के सदस्य हैं जो वेदांता समूह के वैश्विक प्राकृतिक संसाधन व्यवसाय को अग्रणी बनाए रखने के लिए दृढ़संकल्प है। श्री पति एल्यूमिनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मुख्य पदेन सदस्य भी हैं।

अलौह खनिज एवं धातुओं पर आयोजित 20वें राष्ट्रीय कॉन्फरेंस में उन्हें ‘टेक्नोलॉजिकल एक्सीलेंस अवार्ड 2016’ से नवाजा गया। 8वें तथा 9वें एन्यूअल इंडिया लीडरशिप कॉन्क्लेव एंड इंडियन अफेयर्स बिजनेस लीडरशिप अवार्ड्स की ओर से लगातार दो वर्षों तक ‘इंडिया अफेयर्स प्रोफेशनल सी.ई.ओ. ऑफ द ईयर’ के तौर पर सम्मानित किया गया। ओडीशा कल्चरल फाउंडेशन की ओर वर्ष 2017 में आयोजित तीसरे कॉरपोरेट एक्सीलेंस अवार्ड समारोह में श्री पति को ‘बेस्ट सी.ई.ओ. ऑफ द ईयर’ का पुरस्कार दिया गया। बालको के सीईओ के तौर पर वह वर्ष 2019 में ‘सी.ई.ओ. ऑफ द ईयर अवार्ड’ से सम्मानित किया गया। 

श्री पति ऊर्जा के क्षेत्र में पी.ए.टी. योजना के तहत भारत सरकार द्वारा गठित भारतीय-जापानी सहयोग संगठन के भारत सरकार द्वारा नियुक्त नामित प्रतिनिधि हैं। फिक्की ओडीशा स्टेट कांउसिल के सह अध्यक्ष के तौर पर उन्होंने जिम्मेदारी निभाई। बी.पी.यू.टी., ओडीशा के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट में उन्होंने तीन वर्षों के लिए नामित सदस्य के तौर पर कार्य किया।

भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) देश की प्रमुख एल्यूमिनियम उत्पादक इकाई है। कंपनी की 49 फीसदी अंशधारिता भारत सरकार के और 51 फीसदी अंशधारिता वेदांता लिमिटेड के स्वामित्व में है। वेदांता लिमिटेड दुनिया की 6वीं सबसे बड़ी वैविध्यीकृत प्राकृतिक संसाधन कंपनी है तथा यह कंपनी देश में एल्यूमिनियम का सबसे अधिक उत्पादक करती है। बालको द्वारा कोरबा में 0.57 मिलियन टन प्रति वर्ष उत्पादन क्षमता के एल्यूमिनियम स्मेल्टर का प्रचालन किया जाता है। बालको मूल्य संवर्धित एल्यूमिनियम उत्पादों की अगुवा कंपनी है जिसके उत्पादों का महत्वपूर्ण अनुप्रयोग कोर उद्योगों में किया जाता है। विश्वस्तरीय स्मेल्टर और बिजली उत्पादक संयंत्रों के साथ बालको का ध्येय ‘भविष्य की धातु’ एल्यूमिनियम को उभरते अनुप्रयोगों हेतु प्रोत्साहित करते हुए हरित एवं समृद्ध कल के लिए योगदान करना है।