breaking news New

Live_Report : जशपुर, रायगढ़ के नागरिक चेन्नई में फंसे, भूखों मरने की नौबत, जिला प्रशासन नींद में, रायपुर सहित कई शहरों में दूसरे राज्यों के लोग फंसे

Live_Report :  जशपुर, रायगढ़ के नागरिक चेन्नई में फंसे, भूखों मरने की नौबत, जिला प्रशासन नींद में, रायपुर सहित कई शहरों में दूसरे राज्यों के लोग फंसे

रायपुर. कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. लगातार मामले बढ़ते जा रहे हैं. लोग अपने घरों में लाकडाउन है लेकिन छत्तीसगढ़ के कई जिलों के नागरिक विभिन्न राज्यों में और राज्य के शहरों में फंसे हैं. कुछ लोग खुद के वाहनों से आना चाहते हैं लेकिन कलेक्टर अनुमति नही दे रहे हैं. हैदराबाद में जशपुर, रायगढ़, पत्थलगांव के 5 नागरिकों के फंसे होने की खबर है. उनके पास पैसे खत्म हो गए हैं और आने के लिए कोई वाहन भी नही मिल रहा है.

जशपुर की जिला पंचायत सदस्य आशिका कुजूर ने बताया कि ये पांच व्यक्ति जशपुर पत्थलगांव और रायगढ़ निवासी हैं. काम करने के लिए केरल गए हुए थे. घर वापसी के दौरान चेन्नई पहुंचने के बाद लॉक डाउन की स्थिति निर्मित होने से वे वहीं फंसे हुए हैं. आर्थिक स्थिति कमजोर हो चुकी है जिसकी वजह से खाने-पीने और रहने की व्यवस्था नहीं हो पा रही है. सुश्री कुजूर ने बताया कि सोशल मीडिया के जरिए उन्होनें मुझसे संपर्क साधा है और मैंने जशपुर कलेक्टर निलेश क्षीरसागर से बात की. उनके सुझाव के अनुसार एमरजेन्सी हेल्पलाइन नंबर से संपर्क किया.

अभी जशपुर जिला प्रशासन से सहायता की उम्मीद है कि जब तक लॉक डाउन है तब तक इन्हें चेन्नई में ही मूलभूत सुविधा मुहैया कराई जाए. वहाँ उनके खाने और रहने की व्यवस्था नहीं हो पा रही है. इधर सरकार के एमरजेन्सी हेल्पलाइन नंबर में संदेश दिया था लेकिन अब तक कोई प्रतिक्रिया नही आई है. आश्चर्य कि रायपुर जिला प्रशासन ने हेल्पलाइन का नम्बर तक गलत ​डाल दिया. खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने नोडल अधिकारी की जगह कृषि विवि के पीआरओ का नम्बर जारी कर दिया गया है.

आवेदन पर कोई विचार नही किया जा रहा

यूपी कानपुर के कौशल किशोर तिवारी परिवार सहित छत्तीसगढ़ में फंस गए हैं. उन्होंने रायपुर के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर खुद के वाहन से सड़क मार्ग से घर जाने की गुहार लुगाई है परंतु उनके आवेदन पर अभी तक कोई जवाब नही दिया गया है. इसी तरह कार्पोरेट बैंक में कार्यरत श्री झा के दो बच्चे कांकेर में फंसे हुए हैं. उन्होंने एक सरकारी अधिकारी से संपर्क किया और वाटसअप से आवेदन भी दिया तो उन्होंने दो दिन के अंदर अनुमति देने की बात कही, परंतु तीन दिन बाद वे कह रहे हैं कि केबिनेट की बैठक में कुछ फैसला होगा तब तक वे इंतजार करें.

हमारे संवाददाता ने जब तहसील आफिस में संपर्क किया और एक हेल्पलाइन नम्बर पर तैयारियों का जायजा लिया तो बताया गया कि जो जहां पर हैं, उन्हें वहीं रहने के आदेश दिए गए हैं. हां, यहां से भोजन के पैकेटस भिजवाए जा रहे हैं यदि कॉल करके बताया जा रहा है तो. सरकार ने सभी जिलों के लिए हेल्पलाइन नम्बर दिए हैं पर अधिकांश में हमारे संवाददाताओं ने कॉल किया तो कोई रिस्पांस नही दिया गया. अधिकारियों ने कहा- जो जहां है, सामान्य स्थिति होने तक वहीं रुके.

यहां करें संपर्क
जरूरतमदों की सहायता एवं संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए वॉलेन्टियर करने हेतु मोहम्मद हाशिम खान, उप संचालक (निगरानी एवं मूल्यांकन) मोबाइल नम्बर 96910-90000 और डॉ. नरेन्द्र सिन्हा, राज्य सलाहकार मोबाइल नम्बर 79873-67089 से संपर्क कर सकते हैं। रायपुर जिले में मदद एवं सहयोग के इच्छुक नागरिक एवं स्वैच्छिक  संगठन एवं संस्थाएं  आशीष मिश्रा, रायपुर स्मार्ट सिटी 9685792100, शकेदार पटेल, रोजगार अधिकारी 9425502970 या चुन्नी लाल शर्मा शिक्षा विभाग 9827958846 को अपना नाम और मदद किए जाने वाले विषय जैसे- आर्थिक सहायता, खाद्य सामाग्री व अन्य प्रकार के सहयोग व सेवा आदि की जानकारी दे सकते हैं।

इस संबंध में किसी भी प्रकार की समस्या आने पर या समन्वय के लिए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ गौरव कुमार सिंह को 9669577888 या पुलक भटटाचार्य अपर आयुक्त नगर निगम रायपुर से 07772099888 पर जानकारी दी जा सकती है।