breaking news New

माताओ ने रखा संतानो के दीर्धायु आयू के लिऐ कमरछठ ​व्रत

माताओ ने रखा संतानो के दीर्धायु आयू के लिऐ कमरछठ  ​व्रत

 सुकमा . संतान की लंबी उम्र के लिए  माताओं ने कमरछठ का व्रत रखा। कमर छठ की तैयारी करने सुबह से ही सुकमा के बाजार में खासी भीड़ रही। छह तरह की भाजियां, पसहर चावल, काशी के फूल, महुआ के पत्ते, धान की लाई सहित पूजा की कई छोटी-बड़ी पूजन की सामाग्री भगवान शिव को अर्पित करने के लिऐ माताओ के द्वारा एकत्रित किया गया तथा  संतान के दीर्घायु जीवन की कामना के साथ माताओ के द्वारा रखने वाला यहा व्रत विधि विधान से प्रारंभ हुई कमर छट पूजा का  सदियो से परंपरा रहा  है जो सुकमा मे पारंपरिक रूप से  रखा जाता रहा है  

*माताओ के द्वारा  निर्जला रहकर शिव-पार्वती की पूजा की गई  *

छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्योहारों में से एक कमरछठ को हलछठ या हलषष्ठी भी कहा जाता है कमरछट से ज्यादा प्रचलित है इस व्रत को  माताएं निर्जला रहकर शिव-पार्वती की पूजा की  सगरी बनाकर सारी रस्में निभाई  तथा  इस मौके पर कमरछठ की कहानी सुनी तथा   सूर्य को अध्र्य देने के पश्चात   माताओ द्वारा  आरती ,पुजन व  क्षमा प्राथना के साथ शान्ति पाठ कर पुजा सम्पन्न की ।।पुजा मे उपस्थित थे , भुवनेश्वरी यादव ,इच्छा शर्मा,चंद्रीका गुप्ता,उषा शर्मा, वन्दना यादव, मोनिका वर्मा, रूचि शर्मा, नीलम चौहान, हेमलता सरसीहा, पुष्पा जयसवाल,अल्पना वर्मा, जूही विन्दा परमार,अन्नपूर्णा वर्मा, शिवानी शर्म