breaking news New

नो एंट्री में चल रहे भीमकाय वाहन दुर्घटना को दे रहे हैं निमंत्रण

नो एंट्री में चल रहे भीमकाय वाहन दुर्घटना को दे रहे हैं निमंत्रण

हादसा हुआ तो जिम्मेदार कौन

जांजगीर-चांपा, 24 अक्टूबर। जांजगीर-चांपा जिले के उप मुख्यालय चांपा में नो एंट्री टाइम में भी भारी भरकम वाहनों का आवाजाही आम समय की तरह लगातार बना हुआ है इस पर यातायात विभाग का कहीं कोई नियंत्रण नहीं दिख रहा है यदि इस दौरान किसी निर्दोष व्यक्ति का दुर्घटना वश हादसा होता है अथवा अप्रिय घटना हो जाता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। 

 ज्ञात हो कि जिला उप मुख्यालय चांपा में सुबह 6 बजे से लेकर रात 9 बजे तक का नो एंट्री टाइम घोषित किया गया है। इस दौरान शहर के अंदर भारी-भरकम किसी भी प्रकार के वाहन का प्रवेश पर पूर्णता प्रतिबंध लगाया गया है। इसीलिए इसे नो एंट्री टाइम कहा जाता है, लेकिन इसके बाद भी राष्ट्रीय राजमार्ग 49 के परशुराम चौक से होते हुए नया नगर पालिका बस स्टैंड कुरदा बाईपास से कोरबा रोड जाने के लिए बनाया मार्ग में नो एंट्री का कोई दखल नहीं है। नो एंट्री टाइम में भी भारी भरकम वाहन सरेआम इस रोड से गुजर रहे हैं आना जाना हो रहा है तो ऐसा क्यों हो रहा है यह किसी गहरे रहस्य से कम नहीं है इस दौरान यदि किसी निर्दोष व्यक्ति का दुर्घटना व हादसे का शिकार हो जाता है, तो नो एंट्री टाइम में हुए घटना का जिम्मेदार कौन होगा क्या वजह है कि नो एंट्री टाइम में भी सैकड़ों वाहन सरेआम साक्षात मौत बनकर अपनी पूरी रफ्तार से आवाजाही बनी हुई है.


इस संदर्भ में यातायात डीएसपी अधिकारी से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि नो एंट्री में गिने-चुने सरकारी अनुमति प्राप्त वाहनों को ही आने जाने की अनुमति होती है। उनके कहे अनुसार यदि हम मानते लेते है तो गिनती के कुछ वाहनों को ही आने जाने की इजाजत होनी चाहिए लेकिन नो एंट्री में परशुराम चौक से लेकर कुरदा होते हुए। बाईपास मार्ग में सैकड़ों की संख्या में वाहनों का आना-जाना अधिकारी के दी गई। जानकारी से मेल नहीं खा रहा है तो फिर इसके पीछे का रहस्य क्या है इस संबंध में रहस्य रूपी संभावना को साझा करते हुए बताते हैं विशेष सूत्रों के बताए अनुसार  इसका वजह लेनदेन के चक्कर में भारी वाहनों को आने जाने की खुली छूट दी जा रही है।