breaking news New

छत्तीसगढ़ वासियों को हुई घोर निराशा : अब तक का सबसे खराब बजट- रितेश

 छत्तीसगढ़ वासियों को हुई घोर निराशा : अब तक का सबसे खराब बजट- रितेश

बजट से छत्तीसगढ़ में सन्नाटा : उलूल जूलूल बयानबाजी बाजी कर तिलमिला उठे सीएम बघेल
सुरजपुर। भाजयुमो के प्रदेश महामंत्री रितेश गुप्ता ने छत्तीसगढ़ सरकार के मुखिया भूपेश बघेल के द्वारा प्रस्तुत किए गए बजट पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार द्वारा पेश किया गया यह बजट निसंदेह आज तक का सबसे खराब बजट है और यही कारण है कि जब छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह  ने इस बजट पर अपनी प्रतिक्रिया दी तो भूपेश बघेल तिलमिला उठे और उलूल जूलूल बयानबाजी बाजी कर रहे हैं।

इस बजट से छत्तीसगढ़ में सन्नाटा पसर गया है और घोर निराशा का भाव परिलक्षित हो रहा है यह बजट किसान विरोधी बजट है जनजाति विरोधी बजट है युवा विरोधी बजट है महिला विरोधी बजट है रोजगार विरोधी बजट है स्वास्थ्य विरोधी बजट है शिक्षा विरोधी बजट है जिस तरीके से कांग्रेस गंगाजल हाथ में लेकर और झूठे वादे करके सत्ता में आई है और छत्तीसगढ़ के जनता के साथ धोखेबाजी कर रही है।

ठीक उसी प्रकार यह बजट भी है इनके किसी भी बात में दम नहीं है और इस सरकार के प्रति छत्तीसगढ़ के लोगों का विश्वास शून्य हो गया है और आने वाले समय में इन सब बातों को ध्यान में रखकर आदिवासी वनांचल क्षेत्रों में निवास करने वाले लोग पिछड़ा वर्ग के लोग सामान्य वर्ग के लोग सभी वर्ग के लोग मिलकर के और इस सरकार को उखाड़ फेंकने में निश्चित रूप से अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी सुनिश्चित करने वाले हैं और इस बजट से ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार के पास कोई योजना और कोई प्लानिंग नहीं है विगत 2 वर्षों से विकास कार्य ठप पड़े हैं छोटे छोटे काम के लिए लोग परेशान हो रहे हैं पुलिस प्रशासन की स्थिति दयनीय है महिलाएं सुरक्षित नहीं है चाहे कस्टडी डेथ का मामला हो चाहे रेत माफियाओं की बात हो ₹500 ट्रैक्टर की बालू 15 सौ रुपए ट्रैक्टर में खरीदनी पड़ रही है और पुलिस इनको सरंक्षण प्रदान कर रही है।छत्तीसगढ़ के 30 फ़ीसदी जनजाति के लिए केवल 170 करोड़ का प्रावधान किया गया है।

जबकि बजट का कुल 32% हिस्सा जनजाति वर्ग के लिए उपयोग करना चाहिए था। इस संपूर्ण बजट का सार देखे तो निश्चित रूप से घोर निराशा भरा है।