breaking news New

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आईएसबीएम विवि द्वारा संचालित है नि:शुल्क कक्षाएं

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आईएसबीएम विवि द्वारा संचालित है नि:शुल्क कक्षाएं


छूरा || क्या आप भी एक प्रतियोगी परीक्षार्थी हैंक्या आप प्रवेश परीक्षा नीट,पीपीएचटीपीईटीपीएटी जैसी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैंया व्यापमसीजीपीएसी की तैयारी कर रहें हैं और आपको विज्ञान के प्रश्नों को हल करते समय कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है तो अब आपको और परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि अब आईएसबीएम विवि के द्वारा कैम्पस में फ्री-कोचिंग क्लासेज संचालित किया जा रहा है।निर्धारित सीटों के साथ स्टूडेंट्स के लिए फ्री क्लासेज की शुरुआत की गई है।जहां तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स को विश्वविद्यालय के एक्सपर्ट फैकल्टी के जरिए विभिन्न विषयों की नि:शुल्क पढ़ाई करायी जायेगी। फ्री कोचिंग की खास बात यह है कि यहां छात्र जो 11वी में अध्ययनरत् हो वह भी इस कक्षा में सम्मिलित हो सकते हैं। कक्षा में अपने संबंधित विषय के प्रॉब्लम को सीधे एक्सपर्ट से पूछ सकते है और अपने डाउट्स को क्लियर कर सकतें हैं। ऐसे सभी प्रतियोगी छात्र जो इस फ्री क्लास का लाभ लेना चाहते हैं वह विवि परिसर में आकर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तत्पश्चात् फ्री क्लास को ज्वॉइन कर सकते हैं और अपनी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी को और भी मजबूत कर सकते हैं। यह कक्षाएँ विश्वविद्यालय में प्रतिदिन शाम 4 बजे से 5 बजे तक संचालित रहेंगी। प्रत्येक टॉपिक को कॉन्सेप्ट के साथ समझाया जायेगा तथा उसमें होने वाले डाउट्स को क्लियर किया जायेगा। इसके अलावा स्टूडेंट्स को विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्नों का प्रैक्टिस कराया जायेगा 

अध्ययन शाला में प्रवेश हेतु निर्धारित सीटें हैं

विश्वविद्यालय द्वारा संचालित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए नि:शुल्क कक्षाओं की सीटें निर्धारित है।


 इन परीक्षाओं की तैयारी में लगनशील विद्यार्थी के लिए अच्छा अवसर है।


 खासकर वनांचल में निवासित बच्चों को करियर मार्गदर्शन एवं प्रतियोगिताओं की तैयारी करने के लिए अनुकूल वातावरण विश्वविद्यालय के द्वारा निर्मित करने का प्रयास किया जा रहा है।

गरीबी करियर और रोजगार के क्षेत्र में नहीं बन पाएंगा बाधक 

           प्रतिभाशाली विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए विभिन्न कोचिंग संस्थान ज्वाइन करना तो चाहते हैंलेकिन अार्थिक तंगी के चलते वे जुड़ नहीं पाते हैं। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉआनंद महलवार के दूरदर्शी दृष्टिकोण एवं ग्रामीण प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से यह कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।

  अनुभवी प्रोफेसर्स तैयार करेंगे ग्रामीण अंचल में टॉपर्स

आईएसबीएम विश्वविद्यालय के विभिन्न संकायों के अनुभवी प्राध्यापकों एवं सहायक प्राध्यापकों द्वारा विभिन्न विषयों पर कोचिंग से संबंधित विषय पर व्याख्यान देंगे। साथ ही जटिल से जटिल प्रश्नों को समझाने के लिए स्थानीय भाषा में भी अध्यापन कराएंगे। प्रायः देखा जाता है कि स्थानीय भाषा और अध्ययन सामग्री की भाषा दोनों में अंतर के कारण विद्यार्थी समझने में असमर्थता दिखलाते है। विवि द्वारा प्रयास किया जा रहा है किविद्यार्थियों में विषय की समझ गंभीर और सटीक होंजिससे वे परीक्षा हाल में प्रश्नों का हल सटीकता से कर पाएं।