breaking news New

आंदोलन की तैयारी में ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक, वेतन विसंगति सहित 6 सूत्रीय मांगों को लेकर उठाएंगे आवाज, 10 जनवरी से होगा हड़ताल

आंदोलन की तैयारी में ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक, वेतन विसंगति सहित 6 सूत्रीय मांगों को लेकर उठाएंगे आवाज, 10 जनवरी से होगा हड़ताल

सुकमा। ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक भी जल्द ही अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करने की तैयारी कर चुके हैं आगमी 10 जनवरी से  प्रांतव्यापी सांकेतिक हड़ताल करेंगे। ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक वेतन विसंगति सहित 6 सूत्रीय मांगों को लेकर  प्रदेश सरकार को घेरेंगे। 

स्वास्थ्य संयोजक कर्मचारी संघ छत्तीसगढ़ के विगत दिवस हुए प्रदेश स्तरीय बैठक में सरकार द्वारा मांगो के संबंध में निर्णय नहीं लिए जाने पर आंदोलन में जाने का निर्णय लिया गया है। स्वास्थ्य संयोजक कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष

 टार्जन गुप्ता और प्रदेश सचिव प्रवीण ढीढ़वंशी ने बताया

  कोविड काल में विगत दो वर्षो से स्वास्थ्य संयोजक बिना अवकाश के कार्य कर रहे है, कोविड टीकाकरण करने का कार्य भी प्रदेश के स्वास्थ्य संयोजकों द्वारा ही किया जाता है, जिले के अधिकारी कोविड टीकाकरण में वाहवाही लूटने के चक्कर में त्योहार और छुट्टीयो मे भी काम करवाते है

वर्जन

जिला अध्यक्ष पवन सोडी ने बताया कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार स्वास्थ्य कर्मचारियों के संबंध में अपने घोषणा पत्र में किए गए वादे भूल गई है, प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मियों ने प्रदेश के जनता को कोविड टिका लगाकर सुरक्षित करने का काम किया है पर बदले में सरकार द्वारा विशेष कोरोना भत्ता सहित वेतनमान में बढ़ोत्तरी के वादे की घोषणा करने के बाद मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री घोषणाओं को अमल में नही ला पा रहे है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य संयोजकों के वेतन विसंगति का प्रस्ताव शासन स्तर पर वर्षो से लंबित है, इस मामले तत्काल सुनवाई हो

*स्वास्थ्य संयोजको के प्रमुख मांगे *

विभाग के समकक्ष कैडर अनुरूप और विभागीय प्रस्ताव अनुरूप वेतनमान में 2200 से 2800 ग्रेड पे प्रदान किया जाए। ग्रामीण स्वास्थ्य सयोंजक का पदनाम परिवर्तित कर ग्रामीण स्वास्थ्य सहायक अधिकारी किया जाए। सभी उप स्वास्थ्य केंद्र में कलेक्टर दर पर वार्ड आया की नियुक्ति किया जाए। हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में सी एच ओ के इंसेटिव के आधार पर स्वास्थ्य संयोजकों के इंसीटिव प्रतिमाह बढ़ाया जाए। डाटा एंट्री के अतिरिक्त कार्य के लिए प्रतिमाह डाटा एंट्री भत्ता 5 हजार दिया जाए। स्वास्थ्य कर्मियों के लिए विशेष कोरोना भत्ता देने सहित प्रमुख मांग शामिल रहेगी।