breaking news New

ब्रेकिंग : महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोडेले अनशन पर बैठे..मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ खोला मोर्चा..कलेक्टर से न्याय दिलाने की मांग

ब्रेकिंग : महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोडेले अनशन पर बैठे..मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ खोला मोर्चा..कलेक्टर से न्याय दिलाने की मांग

जनधारा समाचार
महासमुंद. जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोडेले ने अपने ही विभाग में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में घटिया सामग्री खरीदी और 20 लाख के भ्रष्टाचार के मामले में न्याय दिलाने के लिए, बोडेले ने पहले कलेक्टर से गुहार लगाई लेकिन जब सुनवाई नही हुई तो आज से अनशन पर बैठ गए हैं.


इस कदम के बाद महासमुंद प्रशासन में हड़कम्प मच गया है. प्रशासन और पुलिस के आला अधिकारी उन्हें मना रहे हैं लेकिन बोडेले अनशन पर बैठे हैं. सुधाकर बोडेले ने सोशल मीडिया एकाउंट में कल इसकी जानकारी देते हुए कहा कि मेरे अनुरोध के बावजूद कलेक्टर द्वारा अनशन हेतु मुझे महासमुंद नगर में अनशन करने हेतु कोई स्थान नही दिया गया इसलिए मेरे द्वारा महासमुंद जिला मुख्यालय में अपने आवास केंद्रीय विद्यालय के समीप अनशन और सत्याग्रह प्रांरभ किया जाएगा. लेकिन कलेक्टर ने इस पर कोई ध्यान नही दिया.

इसके बाद सुुधाकर बडोले ने आज से अनशन शुरू कर दिया है. जानते चलें कि महासमुंद जिले में महिला बाल विकास विभाग की दो योजनाओं में कुल 30 लाख रूपये की अनियमितता हुई है. मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में मार्च 20—21 के बीच 20 लाख रूपये की घटिया सामग्री खरीदी गई. इसी तरह रेडी टू ईट योजना में भी 10 लाख रूपये की अनियमितता की गई है. लेकिन तमाम तरह की शिकायतों के बाद भी दोषी शासकीय अमले पर कोई कार्यवाही नही की गई.

यह बात जब विभागीय अधिकारी जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी सुधाकर बोडेले को पता चली तो उन्होंने कलेक्टर के संज्ञान में लाते हुए जरूरतमंद महिलाओं और बच्चों को उनका अधिकार दिलाने की मांग की गई मगर कलेक्टर ने भी पूरे मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया.