breaking news New

केजरीवाल ने ऑक्सीजन की आपूर्ति पर केंद्र का जताया आभार

केजरीवाल ने ऑक्सीजन की आपूर्ति पर केंद्र का जताया आभार

नयी दिल्ली।  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को कल पहली बार मांग के मुताबिक ऑक्सीजन मिलने पर सुप्रीम कोर्ट, दिल्ली हाईकोर्ट और केंद्र सरकार का आभार जताया है।

श्री केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन में आज कहा कि दिल्ली को कल पहली बार 730 टन ऑक्सीजन मिली है। मेरी अपील है कि जब तक कोरोना की दूसरी लहर कम न हो जाए, तब तक दिल्ली को 700 टन ऑक्सीजन प्रतिदिन दिया जाए। उन्होंने सभी अस्पतालों को ऑक्सीजन की कमी के चलते कम किए अपने बेड को वापस बढ़ाने के लिए कहा है।

यदि समुचित ऑक्सीजन मिले, तो हम तत्काल 9000 से 9500 ऑक्सीजन बेड बढ़ा सकते हैं और ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं होने देंगे। मुख्यमंत्री ने अपील की है कि सभी लोग वैक्सीन लगवाएं और अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों को भी प्रेरित करें। दिल्ली सरकार अभी तक वैक्सीन की 35,74,000 डोज दे चुकी है।

इसमें 28 लाख ने केवल एक डोज ली है, जबकि 7,76,000 लोगों ने दोनों डोज ली है।अगर हमें समुचित वैक्सीन की आपूर्ति मिल जाए, तो हम वादे के अनुसार तीन महीने के अंदर पूरी दिल्ली को वैक्सीन लगा देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के अंदर ऑक्सीजन की भारी कमी चल रही थी।

दिल्ली में आज जितने हमारे अस्पताल और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर हैं उसको चलाने के लिए 700 टन ऑक्सीजन की प्रतिदिन जरूरत है, लेकिन अभी तक दिल्ली को किसी दिन 300, किसी दिन 350, किसी दिन 400 और किसी दिन 450 टन ऑक्सीजन मिल रही थी।

जिसकी वजह से अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो रही थी।
अस्पताल मैसेज पर मैसेज डाल रहे थे।

मीडिया में भी आ रहा था कि इस अस्पताल में घंटे भर की ऑक्सीजन बची है, उस अस्पताल में आधे घंटे की ऑक्सीजन बची है।ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की मौत हो सकती है। काफी ज्यादा दिक्कत हो रही थी, लेकिन कल पहली बार दिल्ली को 730 टन ऑक्सीजन केंद्र सरकार ने भेजी है।

जैसा कि दिल्ली को 700 ऑक्सीजन की जरूरत है, उसके मुकाबले कल पहली बार केंद्र सरकार ने 730 टन अक्सीजन दिल्ली के अंदर भेजी है। इसके लिए मैं दिल्ली की जनता की तरफ से और उनका मुख्यमंत्री होने के नाते केंद्र सरकार का तहे दिल से बहुत ही शुक्रिया अदा करता हूं।

मैं दिल्ली हाईकोर्ट का और सुप्रीम कोर्ट का भी शुक्रिया अदा करता हूं। इन सब के प्रयासों से हम लोगों को कल 730 टन ऑक्सीजन मिली। उन्होंने कहा कि दिल्ली को 700 मिट्रिक टन ऑक्सीजन देने के लिए हम तहे दिल से शुक्रगुजार हैं।इस एक कदम की वजह से बहुत सारी जानें बचेंगी, लेकिन एक दिन 700 टन ऑक्सीजन आने से काम नहीं चलेगा, जब तक यह कोरोना की दूसरी लहर कम नहीं हो जाती है, तब तक हमें प्रतिदिन 700 टन ऑक्सीजन की जरूरत है।

ऐसा न होने पर फिर से सभी अस्पतालों के अंदर हाहाकार मच जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब दिल्ली के अंदर ऑक्सीजन की कमी हुई थी, तो कई अस्पतालों ने अपने बेड कम कर दिए थे। एक बहुत बड़ा अस्पताल है, जिसमें 300 बेड हैं, उसने 100 बेड कम कर दिए थे।
ऐसे समय में जब कोरोना की महामारी चल रही है, लोगों को बेड नहीं मिल रहे हैं, तो हमारा प्रयास यह होने चाहिए कि हम ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड की संख्या को और बढ़ाएं, लेकिन अगर ऐसे समय में बड़े-बड़े अस्पताल अपने बेड कम कर देंगे, तो फिर लोगों में त्राहि-त्राहि मच जाएगी।

हमें ऑक्सीजन की कमी की वजह से सरकारी अस्पतालों, एलएनजेपी में बेड कम करने पड़े, जीटीबी में बेड कम करने पड़े, राजीव गांधी अस्पताल में बेड कम करने पड़े थे। अब मेरी सभी अस्पतालों से निवेदन है कि वे वापस अपने बेड जितने पहले थे, उतना बढ़ा लें।