breaking news New

सोने के जेवरात एवं नगदी रकम सहित लाखों रूपये की नकबजनी करने वाला आरोपी सुकुमार सरकार गिरफ्तार

सोने के जेवरात एवं नगदी रकम सहित लाखों रूपये की नकबजनी करने वाला आरोपी सुकुमार सरकार गिरफ्तार

रायपुर, 23 जून। सोने के जेवरात एवं नगदी रकम सहित लाखों रूपये की नकबजनी करने वाला आरोपी सुकुमार सरकार गिरफ्तार। थाना माना कैम्प क्षेत्रांतर्गत ओमधाम कालोनी स्थित सूने मकान में दिया था नकबजनी की घटना को अंजाम। आरोपी प्रार्थी के घर पास विगत 02 वर्षो से रहता था किराये के मकान में।  शातिर व प्रोफेशनल तरीके से किया था नकबजनी की घटना कारित।

 प्रार्थी सुकान्ति दास ने थाना माना में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह ओमधाम कालोनी माना कैम्प रायपुर में अपने परिवार सहित रहता है तथा प्रार्थी जिला बेमेतरा में पेशे से वकील है। प्रार्थी दिनांक 16.06.21 को सुबह करीब 8.30 बजे अपने परिवार के साथ घर में ताला लगाकर अपने गृह ग्राम बेमेतरा चला गया था कि दिनांक 18.06.21 को शाम करीब 4.00 बजे प्रार्थी माना कैम्प ओमधाम कालोनी आया तो देखा कि उसके घर का मेन दरवाजा का ताला टूटा हुआ था। प्रार्थी अपने परिवार के साथ घर के अंदर प्रवेश कर दूसरे मंजिल में जहां निवास करते है जाकर देखा तो वहां भी सामने का दरवाजा का ताला नहीं था दरवाजा लगा हुआ था दरवाजा खोलकर अंदर गया तो देखा ताले का टुकड़ा वहीं पडा हुआ था तब अंदर जाकर अपने बेडरूम पहुंच कर देखा आलमारी खुला हुआ था एवं आलमारी का लॉकर टूटा हुआ है एवं गहने रखने के डिब्बे लाॅकर में बिखरे हुये थे। प्रार्थी गहनो को चेक किया तो लॉकर में रखा सोने के जेवरात एवं नगदी रकम नहीं था। कोई अज्ञात चोर प्रार्थी के सूने मकान का ताला तोड़कर कमरे अंदर प्रवेश कर उक्त मशरूका को चोरी कर ले गया। जिस पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध थाना माना कैम्प में अपराध क्रमांक 89/21 धारा 457, 380 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया।  

नकबजनी की घटना को पुलिस उपमहानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव द्वारा गंभीरता से लेते हुये अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक माना एल.सी. मोहले एवं थाना प्रभारी माना कैम्प दुर्गेश रावटे को अज्ञात आरोपी की पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। 

जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में सायबर सेल एवं थाना माना कैम्प की संयुक्त टीम द्वारा घटना स्थल का बारिकी से निरीक्षण किया जाकर घटना के संबंध में प्रार्थी से विस्तृत पूछताछ किया गया। टीम द्वारा घटना स्थल व उसके आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों का अवलोकन करने के साथ ही अज्ञात आरोपी की पतासाजी के संबंध में मुखबीर भी लगाये गये। अज्ञात आरोपी के संबंध में तकनीकी विश्लेषण करने के साथ ही चोरी/नकबजनी के पुराने व हाल ही में जेल से रिहा हुए आरोपियों के संबंध में भी तस्दीक कर उनकी गतिविधियों पर सतत् निगाह रखीं जा रही थी। इसी दौरान टीम को मुखबीर से सूचना प्राप्त प्राप्त हुई कि दिनांक घटना को माना कैम्प निवासी सुकुमार सरकार, जो प्रार्थी के घर पास कुछ ही दूरी में किराये के मकान में रहता है, को घटना स्थल पास के आसपास संदिग्ध अवस्था में देखा गया था। जिस पर टीम के सदस्यों द्वारा सुकुमार सरकार की पतासाजी कर पकड़कर घटना के संबंध में पूछताछ करने पर सुकुमार सरकार द्वारा स्वयं को किसी भी प्रकार से अपराध में अपनी संलिप्तता नहीं होना बताकर लगातार टीम को गुमराह करने के साथ ही वह प्रत्येक बार विरोधाभास बयान देता था। जिस पर टीम के सदस्यों का सुकुमार सरकार पर शक और भी गहरा होने पर कड़ाई से पूछताछ करने पर सुकुमार सरकार ज्यादा देर अपने झूठ के सामने टिक न सका और अंततः नकबजनी की उक्त घटना को कारित करना स्वीकार किया। 

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह कुछ दिनों पूर्व मारूति कंपनी की चार पहिया वाहन क्रय किया था जिसे किराये में चलाता था पंरतु लाॅक डाॅउन होने के कारण वाहन की बुकिंग नहीं मिलती थी। जिस पर वाहन का किश्त अदा करने हेतु उसके पास रकम नहीं था जिसके कारण आरोपी ने नकबजनी की उक्त घटना को अंजाम दिया था। आरोपी वर्ष 2019 में धारा 507 भादवि. एवं वर्ष 2020 में धारा 354 भादवि. के प्रकरणों में भी थाना माना कैम्प से जेल निरूद्ध रह चुका है। आरोपी की निशानदेही पर उसके कब्जे से नकबजनी की सोने के जेवरात करीबन 16 तोला एवं नगदी रकम 4,000/- रूपये जुमला कीमती लगभग 8,50,000/- (आठ लाख पचास हजार रूपये) जप्त कर आरोपी को गिरफ्तार कर उसके विरूद्ध थाना माना कैम्प में अग्रिम कार्यवाही किया गया। 

आरोपी को गिरफ्तार करने एवं मशरूका बरामद करने में निरीक्षक दुर्गेश रावटे थाना प्रभारी माना, उपनिरीक्षक अमित कश्यप सायबर सेल, उपनिरीक्षक सौमित्री भोई थाना माना कैम्प, सउनि. राधेलाल साहू थाना माना, सायबर सेल से सउनि. किशोर सेठ, प्र.आर. ईरफान खान, आर. अनिल पाण्डेय, उपेन्द्र यादव, आलम बेग, प्रदीप साहू एवं प्रवीण मौर्य तथा विजय रात्रे थाना माना कैम्प की महत्वपूर्ण भूमिका रहीं।