breaking news New

मनी लांड्री के मामले में पूर्व आईएएस अफसर गिरफ्तार, आज उन्हें न्यायालय में किया जायेगा पेश

मनी लांड्री के मामले में पूर्व आईएएस अफसर गिरफ्तार, आज उन्हें न्यायालय में किया जायेगा पेश

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पूर्व आईएएस अफसर बाबूलाल अग्रवाल को मनी लांड्री के मामले में प्रवर्तन निदेशालय ईडी ने गिरफ्तार कर लिया है। ईडी के सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। 

जानकारी के मुताबिक ईडी सूत्रों ने बताया कि बीएल अग्रवाल और उनके भाइयों की 36 करोड़ रुपये से  अधिक की  संपत्ति जब्त  की गई है। पूर्व आईएएस अफसर बाबूलाल और उनके सहयोगियों ने फर्जी कंपनियों के जरिये करोड़ों रुपये की हेराफेरी की थी। 

पूर्व आईएएस अफसर बाबूलाल के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए उनके परिवार की संपत्ति को जब्त किया जा चूका है। 

 ईडी की जांच में खुलासा हुआ है कि ग्रामीणों के नाम पर आरोपियों ने 384 खाते खुलवाए थे। पैसों की हेराफेरी के लिए फर्जी कंपनियों का प्रयोग किया गया . ईडी के मुताबिक मामीणों द्वारा जमा की गई रकम बाद में प्राइम इस्पात नाम की एक कंपनी के अकाउंट में ट्रांसफर कर दी गई थी , वह बाबूलाल अग्रवाल के भाइयों की थी . इस मामले में सीबीआई पहले ही केस दर्ज कर चुकी है.इसी मामले में ईडी ने सोमवार को बीएल अग्रवाल को गिरफ्तार किया है . उन्हें मंगलवार को न्यायालय में पेश किया जायेगा। 

ईडी के सूत्रों ने बताया कि जाँच एजेंसी द्वारा जब्त किये गए ढेरों दस्तावेजों के बारे में पूछताछ के लिए पिछले दो साल से पूर्व आईएएस अफसर बाबूलाल को तलब किया जा रहा था। 

सीबीआई घूस कांड में जब बीएल अग्रवाल तिहाड़  में थे तब भी उनसे  ईडी  ने  पूछताछ की थी। बोगस खातों और बेनामी संपत्ति से उनका कोई लेना - देनानहीं है . कंपनी का संचालन उनके भाई करते हैं . इसी बीच जब ईडी ने भाई की कंपनी पर छापेमारे तो वहां बाबूलाल अग्रवाल से जुड़े ढेर सारे दस्तावेज मिले . इन्हीं दस्तावेजों के बारे में ईडी उनसे पूछताछ करना चाहती है.लेकिन हर बार वह कुछना कुछ वजह बताकर पेशनहीं होरहे थे . इसी बीच उन्होंने हाईकोर्ट में एक याचिका लगाकर ईडी की जांच को स्थगित रखने की मांग की.ईडी ने भी मजबूती से अपना पक्ष रखा , जिसमें सारे तथ्य रखे गए कि उनको इतनी बार सूचना दिए जाने के बाद भी जांच में सहयोग नहीं कर रहे . अदालत से स्टे कीयाचिकाखारिज होतेही आज ईडी ने बाबूलाल अग्रवाल को दबोच लिया .