breaking news New

अधिकारियों की मौजूदगी में महिला समूह ने वर्मी कम्पोस्ट खाद का किया विक्रय

अधिकारियों की मौजूदगी में महिला समूह ने वर्मी कम्पोस्ट खाद का किया विक्रय

सकर्रा, 27 मई। गौधन न्याय योजना अंतर्गत ग्राम सकर्रा में महिला समूह द्वारा तैयार वर्मी कंपोस्ट खाद का वितरण किया गया. दिन बुधवार को वर्मीकम्पोस्ट खाद किसानों को वितरण किया गया. इस अवसर ग्राम सकर्रा में 50 कृषकों उपस्थित थे. जिस दौरान 70 बोरी नगद वर्मी कम्पोस्ट का वितरण किया गया, वही कृषको को 20 बोरी परमिट में वितरण किया गया. 

इस अवसर पर जनपद सीईओ पोयाम ने अपने संबोधन में कहा कि शासन की महत्वकांक्षी योजना गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोठान से तैयार खाद को बेचा जायेगा तथा प्राप्त राशि समहू के खाते में सीधे दिया जाना है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के महत्वाकांक्षी योजना नरवा गरवा घुरवा बारी अंतर्गत गोधन योजना के तहत गोठान बनाए गए, जहां गोबर खरीदी कर एकत्रित किया जा रहा है जिसमें महिला समूहों के द्वारा वर्मी कंपोस्ट खाद तैयार किये जा रहे हे. वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी आर. के. चंद्रा ने कहा कि इस प्रकार इस योजना से किसान, चरवाहा, महिला समूहों को रोजगार भी मिल रहा है एवं छत्तीसगढ़ राज्य आर्थिक दृष्टि से समृद्ध हो रहा है. इस अवसर पर मुख्य रूप से जनपद पंचायत मालखरौदा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संदीप सिंह पोयाम , वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी आर. के. चंद्रा, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी चैन मरकाम क्षेत्र सकर्रा, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी कुमारी सरिता भारती क्षेत्र आमनदुला, जनपद सदस्य टिकेश्वर प्रसाद चंद्रा, सरपंच पदमा डुलेश्वर बरेठ, सचिव राजेश कुमार गवेल एवं कृषक गोरेलाल चंद्रा, सौंखीलाल चंद्रा, सरोज (दादू) चंद्रा नेमसिंह चंद्रा, नंदकुमार श्रीवास, रेवंत गवेल एवं महिला समूह नीम चौरापारा स्व सहायता समूह सकर्रा उपस्थित रहे।

 महिला समूह ने गोबर से कंपोस्ट खाद किया तैयार 

गोधन न्याय योजना के तहत गोबर की खरीदी की गई है. गोठान में कृषि विभाग के तकनीकी मार्गदर्शन में वर्मी कंपोस्ट उत्पादन करवाकर महिला स्व सहायता समूह के माध्यम से विक्रय किया जा रहा है. वहीं वरिष्ठ कृषि अधिकारी आर.के चंद्रा ने बताया कि क्षेत्र में खाद बीज की सैपलिंग कर गुणवत्ता का ध्यान रखा जा रहा है. गोठानों में लगातार गोबर बेचने वाले किसानों की संख्या बढ़ती जा रही है. इससे किसानों व पशुपालकों की आय में भी बढ़ोत्तरी हो रही है. वहीं गोबर से कंपोस्ट खाद तैयार किया जा रहा है. 

लाभांवित करने पर दिया जा रहा जोर

वर्मी खाद का विक्रय समूह के माध्यम से किया जा रहा है. किसानों और नागरिकों से आग्रह हैं कि वे इन वर्मी कंपोस्ट का लाभ लें. जिनमें किसानों को लाभांवित करने पर भी जोर दिया जा रहा है. योजनांतर्गत योजनाओं के माध्यम से अधिक से अधिक किसानों को लाभांवित करने पर जोर दिया जा रहा है. इसी तरह फील्ड के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को कृषि विभाग की योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए किसानों को आदान सामग्रियों का वितरण करने के निर्देंश दिए गए हैं.