breaking news New

लैम्पस कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त होने से हजारों किसानों को मिली राहत

लैम्पस कर्मचारियों की हड़ताल समाप्त होने से हजारों किसानों को मिली राहत

जगदलपुर। राज्य सरकार से राशि जारी होने के बाद लैम्पस सहकारी समितियों की हड़ताल समाप्त हो गई है। जिसके बाद बस्तर जिले के सभी 52 लैम्पस खुलने से जिले के हजारों किसानों को राहत मिली है। 

 वहीं 01 दिसंबर से धान खरीदी की तैयारी व्यवस्थित होगी। लैम्पस के कर्मचारी 08 नवंबर से अनिश्चतकालीन हड़ताल पर थे। जिला विपणन अधिकारी आरबी सिंह ने कहा कि लैम्पस के कर्मचारी हड़ताल में वापसी कर चुके हैं, जिसके बाद धान खरीदी से संबंधित सभी कार्य में तेजी आएगी। 

गौरतलब है कि विगत 22 दिनों की लंबी हड़ताल की वजह से लैम्प्स के कार्य प्रभावित थें। लैम्पस कर्मचारी संघ के बैनर तले सहकारी कर्मचारी 05 सूत्रीय मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थे। इसकी वजह से समितियों में ताला लटकने से खाद बीज का वितरण बंद हो गया।

 इसके साथ ही किसानों को केसीसी, ब्याज अनुदान , लोन की एंट्री का काम भी बंद हो गया था। इसके साथ ही आने वाले दिनों में धान की खरीदी की प्रभावित होने की आशंका बनी हुई थी। 

 सप्ताह पूर्व हड़ताल खत्म होने के बाद समितियों में लगे ताले किसानों के लिए खोल दिए गए हैं। सहकारी समिति के कर्मचारी काम पर लौट चुके हैं, जिससे किसानों को राहत मिली है। जिले में 414 उचित मूल्य की राशन दुकान संचालित हैं, जिनमें से 55 उचित मूल्य की दुकानों को सहकारी समिति संचालित कर रहीं हैं। जिनके वापसी के बाद सभी उचित मूल्य की दुकानों में कर्मचारियों की वापसी हो गई है।

संघ के जिलाध्यक्ष महेश देवांगन ने बताया कि प्रदेश के सहकारी समितियों के लाखों क्विंटल  धान का सूखत आया। इसकी भरपाई के लिए महासंघ ने प्रदेश के कर्मचारियों के साथ आंदोलन किया। 

इसके बाद पिछले दिनों कैबिनेट की बैठक में सहकारी समितियों की साख को बचाने और आर्थिक सुधार के लिए 250 करोड़ का आर्थिक पैकेज समितियों के लिए देने का निर्णय हुआ। जिसके बाद हड़ताल खत्म कर काम पर लौटने का निर्णय लिया गया।