breaking news New

आज की जनधारा के प्रधान संपादक सुभाष मिश्र ने राजाराम त्रिपाठी की कविता का पाठ करते हुए उनके लेखन पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की

आज की जनधारा के प्रधान संपादक सुभाष मिश्र ने राजाराम त्रिपाठी की कविता का पाठ करते हुए उनके लेखन पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की

रायपुर। आज की जनधारा के प्रधान संपादक सुभाष मिश्र ने राजाराम त्रिपाठी की कविता का पाठ करते हुए उनके लेखन पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की । वरिष्ठ पत्रकार प्रफुल्ल पारे ने राजाराम त्रिपाठी के कृतित्व और व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला । राजाराम त्रिपाठी अपने लेखन के बारे में बताया ।


आज की जनधारा में आए खास मेहमान किसान व कवि डॉ राजाराम त्रिपाठी की काव्य संग्रह ‘बस्तर बोलता भी है’ की भेट। डॉ त्रिपाठी की यह पांचवीं कृति है। संग्रह की हर कविता एक अलग आयाम प्रस्तुत करती है, जिसके बरअक्श बस्तर को समग्रता के साथ देखा जाए. बस्तर केवल एक स्थान भर नहीं है बल्कि आदिवासी बहुल यह क्षेत्र अपनी गरिमामयी पंरपरा, प्रकृति प्रेम, अनूठी संस्कृति, सत्ता प्रतिष्ठान द्वारा उपेक्षित और उपेक्षा के दंश से आक्रोशित समूह है।