breaking news New

Breaking: राजधानी के फैक्ट्री में खाद्य एवं औषधि विभाग की दबिश, बिना लायसेंस के बना रहे थे सेनेटाइजर

Breaking: राजधानी के फैक्ट्री में खाद्य एवं औषधि विभाग की दबिश, बिना लायसेंस के बना रहे थे सेनेटाइजर


रायपुर।
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के मोवा स्थित से सेनेटाइजर फैक्ट्री में खाद्य एवं औषधि विभाग ने दबिश दी है। विभाग ने इंडो जर्मन बायोसाइंस फैक्ट्री में छापेमार कार्रवाई कर 732 लीटर सैंपल के सेनेटाइजर जब्त किया है। बिना लाइसेंस के यहां सेनेटाइजर बनाया जा रहा था। ड्रग एडं कोस्मेटिक एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।
ड्रग एवं औषधि कंट्रोल विभाग के अधिकारी बेनीराम साहू ने बताया कि सूत्रों से मिली सूचना के आधार पर ये कार्रवाई की गई है। दाल मिल कैंपस में संचालित नीलेश गुप्ता की फैक्ट्री इंडो जर्मन बायोसाइंस में सेनेटाइजर बनाने की सूचना मिली थी। सूचना के आधार पर औषधि नियंत्रण टीम वहाँ पहुँचकर 732 लीटर सनराइजर्स को जब्त किया है। साथ ही दस्तावेजों की छानबीन करने पर पता चला है कि यह कंपनी बगैर लाइसेंस की संचालित किया जा रहा था।
उन्होंने बताया कि जब्त सेनेटाइजर की सैंपल जाँच के लिए भेजा जाएगा। जाँच रिपोर्ट आने के आगे की कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल ड्रग एवं कॉस्मेटिक एक्ट के तहत कार्रवाई जारी है। कोरोना वायरस के संक्रमण के बचने के लिए हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल किया जा रहा है जिससे इसकी ब्रिक्री बढ़ गई है इसलिए सेनेटाइजर बनाने फैक्ट्रियों में होड़ मच गई  है। अब बिना लाइसेंस के ही इसका निर्माण किया जाना शुरु हो गया है।