breaking news New

रेलकर्मी कालोनी के कई मकानों समेत स्टेशन मास्टर का आवास भी ठेकेदार के गोदाम में तब्दील

 रेलकर्मी कालोनी के कई मकानों समेत स्टेशन मास्टर का आवास भी ठेकेदार के गोदाम में तब्दील

बिलासपुर। कोरबा रेलखंड में कार्यरत रेलकर्मी कालोनी के कई मकानों समेत स्टेशन मास्टर को आवंटित आवास भी ठेकेदार के गोदाम में तब्दील हो गया है और वे अपने परिवार समेत बाहर किसी किराए के मकान में रहने को विवश हैं। विडंबना यह कि उपलब्ध सुविधा में जो मकान उन्हें दिए गए हैं, उन पर भी ठेकेदारों की नजर होती है। 

छोटे-बड़े सात रेलवे स्टेशनों वाले कोरबा रेलखंड में एक हजार से अधिक रेलकर्मी कार्यरत हैं। इनमें बालपुर रेलखंड का पहला स्टेशन है, जो चांपा के सहायक डिविजनल इंजीनियर (एडीईएन) के अधीन आता है। बालपुर की रेलवे कालोनी में मकान क्रमांक सी-वन स्टेशन मास्टर बालपुर को आवंटित किया गया है, जिस पर ठेका कंपनी सहारिया कंस्ट्रक्शन का कब्जा है। परिणाम स्वरूप स्टेशन मास्टर और उनका परिवार स्वयं के खर्च से बाहर किराए के मकान में रहने को मजबूर हो रहा है। 

बालपुर की कालोनी में रेल कर्मचारियों के लिए ए-टाइप के तीन व बी-टाइप के भी तीन मकान हैं। रेलवे से प्लेटफार्म के निर्माण कार्यों का ठेका लेने वाली इस कंपनी ने कर्मियों ने मकान संख्या ए-1, बी-2 व सी-1 में अवैध रूप से कब्जा भी कर रखा है। ठेकेदार के विभागीय आवास पर कब्जे की सूचना कई बार संबंधित विभाग एवं सुरक्षा नियंत्रक को डायरी एंट्री के माध्यम से दी जा चुकी है, पर ध्यान नहीं दिया गया।

आवास के  दरवाजे-खिडकियों की हालत भी खराब है और यहां तक कि पीने के पानी की मूलभूत आवश्यकता के लिए भी कालोनी में कोई व्यवस्था नहीं है। अपनी दैनिक जरूरत की पूर्ति के लिए कर्मचारियों को बाहर से पानी ढोकर लाना पड़ रहा है। इस विषय को लेकर  दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के सहायक मंडल रेल प्रबंधक को एक पत्र लिखा गया है।

कर्मचारियों का कहना है कि आइओडब्ल्यू हर बार उनकी शिकायत सुनकर लघु मरम्मत पुस्तिका में तो दर्ज कर लेते हैं, पर उसके बाद काम आगे नहीं बढ़ पाता। अधिकारी उनकी समस्या दर्ज (नोटेड रिमार्क) कर छोड दिया जाता है। वहां रेलवे का काम चल रहा है, जिसके चलते रेलवे कालोनी के कुछ मकानों में ठेका कंपनी का गोदाम बना लिए जाने की शिकायत मिली है। ईओडब्ल्यू को निर्देश दिए हैं कि जल्द से जल्द सामान हटवाकर उन मकानों को खाली कराएं।