धर्मशाला में ठहराये गये प्रवासी मजदूरों ने किया खाना खाने से इंकार

धर्मशाला में ठहराये गये प्रवासी मजदूरों ने किया खाना खाने से इंकार


जींद ! हरियाणा के जींद के उचाना में आज एक धर्मशाला में बनाकर ठहराये गये प्रवासी मजदूरों ने घर भेजे जाने की मांग को लेकर खाना खाने से मना कर दिया जिसके बाद एसडीएम को खुद वहां जाकर उन्हें मनाना पड़ा।

उचाना बस स्टैंड के पास भगवान परशुराम धर्मशाला में ठहराये गये प्रवासी मजदूरों ने सुबह ग्यारह बजे लाया गया भोजन स्वीकार करने से मना कर दिया। इसके बाद एसडीएम राजेश कोथ, डीएसपी दलीप सिंह धर्मशाला में पहुंचे। एसडीएम ने सरकार के आदेशों के बारे में मजदूरों को बताया और आखिर उन्हें खाना खाने के लिए मना लिया। बाद में एसडीएम ने उनके साथ बैठकर खाना चााया।

यहां पर 1 बच्चे सहित 35 प्रवासी मजदूर रूके हुए है। लॉकडाउन के बाद से वो यहां पर है अब लॉकडाउन-2 में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ गया है। एक मजदूर सुल्तान सिंह ने बताया कि उनके बच्चे बीमार हैं और वह फोन पर तो परिवार से बात कर रहे है लेकिन उनके बच्चों को कौन दवा दिलाएगा। उन्होंने कहा कि बच्चों की याद उन्हें आ रही है। सरजू नामक एक मजदूर ने कहा कि उनके माता-पिता घर पर अकेले हैं, उनकी सेवा करने के लिए कोई नहीं है। बच्चों से बात होती

chandra shekhar