breaking news New

26 जून को 10,272 लोगों ने वैक्सीन लगवाकर अपने आप को कोरोना वायरस से सुरक्षित कर लिया

26 जून को 10,272 लोगों ने वैक्सीन लगवाकर अपने आप को  कोरोना वायरस से सुरक्षित कर लिया

वैक्सीन लगने के बाद भी कोविड  एप्रोप्रिएट व्यवहार ज़रूरी- कलेक्टर,

सक्ती जांजगीर-चांपा, 27 जून। 26 जून को जांजगीर-चांपा जिले के 10 हजार 272 लोगों ने कोरोना वायरस की टीका लगवाया और इस जानलेवा बीमारी से अपने आप को सुरक्षित कर लिया।

कलेक्टर जितेन्द्र कुमार शुक्ला के मार्गदर्शन में जिले में कोविड वैक्सीनेशन कराने आम लोगों को सतत रूप से जागरूक किया जा रहा है। जितनी अधिक आबादी का टीकाकरण होगा, कोरोना वायरस से उतनी अधिक सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। इसके मद्देनजर कलेक्टर ने जिले के सभी पात्र हितग्राहियों को यथाशीघ्र कोविड की वैक्सीन स्वयं और परिवार के सदस्यों को लगवाने की अपील की है।

 कलेक्टर ने कहा है कि वैैैक्सीन लगाने के बाद भी कोविड अनुरूप व्यवहार करना, मास्क लगाना, शारीरिक दूरी रखना एवं हाथों की सफाई आवश्यक है जिससे कोरोना के खतरे को कम किया जा सके।

 जिले की जनता में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने पूर्व सावधानी  बरती जा रही है। जिले में 26 जून तक 3 लाख,50 हजार से अधिक हितग्राहियों द्वारा कोविड का पहला टीक  लगवाया जा चुका है।


 कलेक्टर जितेन्द्र कुमार शुक्ला के मार्गनिर्देशन में कोविड-19, की रोकथाम एवं लोगों को  इसके संक्रमण से बचाव के लिए जिले में 188 वैक्सिनेशन सेंटर्स में टीकाकरण किया जा रहा है। इन सेंटरों में 18 से 44 वर्ष एवं इससे उपर के लोगों का टीकाकरण जारी है। निर्धारित अंतराल पूरी होने पर हितग्राही स्वप्रेरणा से टीके की दुसरी खुराक लगवाने पहुच रहे हैं। कोरोना के संभावित तीसरी लहर से बचाव के लिए यह टीका प्रभावकारी होगा और सुरक्षा कवच का काम करेगा।

 जिला प्रशासन  के निर्देश पर विभागीय अमलों द्वारा लोगों के बीच फैले भ्रम को दूर कर उन्हें सही जानकारी भी दी जा रही है। इसके लिए स्थानीय स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। 

कोरोना के टीके का कोई शारीरिक दुष्प्रभाव नही है। विशेषज्ञों द्वारा परीक्षण के उपरान्त वैक्सीन को टीकाकरण के लिए प्रमाणित किया गया है। टीकाकरण के पश्चात कोरोना संक्रमण से शरीर में गंभीर क्षति नही होती। अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण होने से हम सब वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हो सकेंगें।