फसल-चक्र परिवर्तन के लिए किसानों को कलेक्टर ने दी समझाइश

फसल-चक्र परिवर्तन के लिए किसानों को कलेक्टर ने दी समझाइश

 ग्राम डाही में आयोजित किसान चैपाल में कलेक्टर ने धान और दलहन- तिलहन फसलों की तुलनात्मक जानकारी दी

धमतरी, 9 अक्टूबर। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने धमतरी विकासखंड के ग्राम डाही में आज आयोजित किसान चैपाल में शिरकत कर ग्रामीणों को आगामी रबी फसल में फसल चक्र परिवर्तन के संबंध में चर्चा कर उन्हें धान की फसल लेने के बजाय दलहन-तिलहन की खेती करने की समझाइश दी। साथ ही किसानों को दोनों फसलों की तुलनात्मक जानकारी देते हुए रबी फसल के तौर पर गेहूं, चना, सरसों, अलसी जैसी अर्ली वेरायटी की पैदावार लेने के लिए प्रोत्साहित किया। 

ग्राम डाही के राजीव गांधी सेवा केन्द्र में आयोजित किसान चैपाल में उपस्थित किसानों से रू ब रू होते हुए कलेक्टर ने कहा कि जिले के किसान रबी फसल के तौर पर मुख्यतः धान की ही फसल लेते हैं, जबकि अन्य उतेरा फसल लगाकर भी वे अच्छी खासी आय अर्जित कर सकते हैं। उन्होंने प्रति एकड़ खेत में धान तथा गेहूं-चना की औसत पैदावार के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि कृषि विभाग के मैदानी अमले के सतत मार्गदर्शन में दलहन- तिलहन की खेती भी फायदेमंद साबित हो सकती है, बशर्ते किसान सकारात्मक सोच और तकनीकी जानकारी के साथ इसे अपनाएं। गेहूं, चना की पैदावार लेने में धान से काफी कम पानी की जरूरत होती है, वहीं फसल चक्र परिवर्तन से मिट्टी का उपजाऊपन संतुलित बना रहता है। इसके लिए खरीफ और रबी दोनों फसलें अर्ली वेरायटी की ली जानी चाहिए। 


इस दौरान कलेक्टर ने ग्रामीणों को कोरोना वायरस से डरने के बजाय बुद्धिमत्तापूर्वक लड़ने की सलाह दी। सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षणों वाले लोगों का चिह्नांकन कर इसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को मुहैया कराने की अपील की, जिससे संक्रमण को रोका जा सके। उन्होंने बताया कि कोरोना के सामान्य मरीजों को घरपर रखकर उपचार की सुविधा शासन द्वारा मुहैया कराई हा रही है, जबकि रक्तचाप, मधुमेह, दमा जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रसित मरीजों का इलाज अस्पाल में भर्ती कर किया जाता है। जिले में कोविड-19 से ग्रस्त 48 मरीजों की मृत्यु हुई है, जिनमें से 44 अन्य बीमारियों से पीड़ित थे, यानी विशुद्ध कोरोना से मृत्यु होने वालों की संख्या सिर्फ 04 है। 

इसके पहले, उप संचालक कृषि जीएस कौशल ने कलेक्टर को जानकारी देते हुए बताया कि ग्राम डाही 360 हेक्टेयर कृषि भूमि है, जहां पर 312 हेक्टेयर रकबे में खरीफ तथा 146 हेक्टेयर में रबी फसल ली जाती है। उन्होंने आगे बताया कि उक्त ग्राम में रबी फसल वर्ष  2019-20 में चना 16.88 हेक्टेयर, गेहूं 1.07, तिवड़ा 126, सरसों 01, अलसी 0.16 तथा मटर की पैदावार 1.08 हेक्टेयर रकबे में ली गई थी। इसी प्रकार उक्त फसलों को लेने के लिए रकबे में वृद्धि करते हुए वर्तमान रबी वर्ष में चना 80 हेक्टेयर में, गेहूं 28, तिवड़ा 70, सरसों 20, अलसी 02 तथा मटर की पैदावार 17 हेक्टेयर क्षेत्र में लिए जाने का लक्ष्य ग्राम के 357 किसानों के द्वारा रखा गया है। किसान चौपाल में सहायक संचालक उद्यानिकी डी एस कुशवाहा, कृषि विभाग के एसडीओ सहित काफी संख्या में स्थानीय कृषक एवं ग्रामीण उपस्थित थे।