breaking news New

पोटकपल्ली के ग्रामीणों को मिला जीवन का ‘‘आधार‘‘

पोटकपल्ली के ग्रामीणों को मिला जीवन का ‘‘आधार‘‘


कृष्णा नायक दोरनापाल

दोरनापाल।  आधार कार्ड आज की तारीख में सिर्फ एक जरुरी दस्तावेज नहीं बल्कि एक व्यक्ति की पहचान है। 12 अंकों वाले इस यूनिक नम्बर से ही किसी व्यक्ति की पहचान शासकीय दफ्तरों में भी की जाती हैै। हो भी क्यों ना आखिर आधार कार्ड जरूरी होता जा रहा है। पहचान के लिए हर जगह आधार कार्ड भी मांगा जाता हैं। 

सुविधा शिविर किस्टाराम में किया था पंजीयन

जिला प्रशासन द्वारा 20 अक्टूबर से 23 अक्टूबर 2021 तक किस्टाराम में सुविधा शिविर लगाकर ग्रामीणों का नवीन आधार पंजीयन किया गया था। अंदरुनी क्षेत्रों के ग्रामीणों को आधार पंजीयन में सुविधा हो इसके लिए प्रशासन द्वारा सुविधा शिविर, ग्रामीणों के निकटतम स्थान पर आयोजित कर आधार सहित राशन कार्ड, पेंशन, स्वास्थ्य कार्ड हेतु पंजीयन किया गया। आज किस्टाराम क्षेत्र के पोटकपल्ली ग्राम के 128 ग्रामीणों को आधार कार्ड प्रदान किया गया।


राशन के साथ ही अन्य योजनाओं का मिलेगा लाभ

सुकमा जिले के कोण्टा विकासखण्ड के अधिकतर गांव अंदरुनी और संवेदनशील क्षेत्रों में बसे हुए हैं। जहाँ ग्रामीणों के पास आधार कार्ड ना होने के कारण उन्हें शासकीय योजनाओं का लाभ लेने में मुश्किल उठानी पड़ती थी। आधार कार्ड ना होने के वजह से बहुत से ग्रामीण शासन द्वारा प्रदाय किए जा रहे राशन का लाभ लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता। ज्ञात हो कि अब सार्वजनिक वितरण प्रणाली द्वारा राशन प्राप्त करने हेतु हितग्राहियों का राशन कार्ड उनके आधार कार्ड के साथ पंजीकृत होना अनिवार्य कर दिया गया है।

ऐसे में जिन ग्रामीणों के पास आधार कार्ड नहीं था, वे सार्वजनिक वितरण प्रणाली का लाभ लेने से वंचित ना रह जाए इसलिए सुकमा जिला प्रशासन ने शिविर लगाकर ग्रामीणों का आधार पंजीयन किया। क्षेत्र के ग्रामीणों को आधार कार्ड प्रदाय होने से ना सिर्फ राशन बल्कि शासन की अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ लेने में सहूलियत होगी।