breaking news New

थाना प्रभारी रविंद्र अनन्त एवं कार्यपालिक मजिस्ट्रेट के द्वारा अवैध पटाखा बेचने वाले विक्रेताओं पर की गई कार्यवाही से बड़े व्यापारियों में मची हड़कंप

थाना प्रभारी रविंद्र अनन्त एवं  कार्यपालिक मजिस्ट्रेट के द्वारा अवैध पटाखा बेचने वाले विक्रेताओं पर की गई कार्यवाही से बड़े व्यापारियों में मची हड़कंप

सक्ती - दिपावाली त्यौहार का मौसम आते ही पटाखा विक्रेताओं की बल्ले बल्ले हो जाती है क्योंकि  निर्धारित मूल्य से दो से तीन गुना अधिक दर से पटाखा में इनके द्वारा बेचा जाता है और इसी के लिए नगर के  दो तीन व्यक्तियों द्वारा करोड़ों रुपए के स्टाक रखे जाते हैं परंतु छोटे-मोटे फुटकर जो अपनी रोजी-रोटी कमाने  के लिए छोटी मोटी दुकान लगाकर पटाखा  बेचते हैं और जब भी प्रशासन द्वारा कार्यवाही की जाती है तो केवल ऐसे ही छोटे व्यापारियों पर कार्रवाई की जाती है जबकि करोड़ों रुपए के फटाके नगर में कुछ विक्रेताओं द्वारा छोटे लाइसेंस की आड़ पर धड़ल्ले से बिक्री करते हैं और इन व्यापारियों द्वारा सक्ती सहित आसपास के क्षेत्रों में इन्हीं के द्वारा पटाखा की बिक्री एवं सप्लाई की जाती है परंतु जब भी कार्रवाई होती है तो ऐसे बड़े व्यक्तियों पर नहीं हो पाती जो समझ से परे है वही 1 नवंबर 2020 रविवार को थाना प्रभारी सक्ती एवं कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सक्ती की सयुक्त टीम द्वारा सक्ती में अवैध रूप से पटाखे बेचने वाले पटाखा विक्रेताओं के विरुद्ध कारवाही करते हुए तीन  व्यापारियों पर कार्रवाई की गई परंतु छोटे फुटकर  विक्रेता संदीपअग्रवाल,अंकित अग्रवाल और प्रेम गुप्ता के दुकान के सामने से करीब 50 हजार रुपये के पटाखे जप्त कर विस्फोटक अधिनियम के तहत कारवाही की गई । परंतु बारूद के ढेर में वही नगर के बीचो बीच कई जगहों पर भारी मात्रा में पटाखे का स्टॉक रखा गया है परंतु बड़े मछली तक प्रशासन के हाथ नहीं पहुंच रहे है ऐसा नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है प्रतिवर्ष छोटे व्यापारियों पर कार्रवाई होती  है अगर पुलिस अपनी  मुखबीर लगाकर सही कार्रवाई करें तो नगर से करोड़ों रुपए के अवैध पटाखे बरामद हो सकते हैं। 

इस संबंध में नगर निरीक्षक प्रभारी रविंद्र अनन्त द्वारा बताया गया कि नगर में बिना लाइसेंस के अवैध पटाखा  विक्रेताओं पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी और यह कार्यवाही लगातार चलती रहेगी।