केन्द्र से गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्न वितरण तीन माह से बढ़ाकर छह माह करने का अनुरोध

केन्द्र से गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्न वितरण तीन माह से बढ़ाकर छह माह करने का अनुरोध

रायपुर, 14 अप्रैल। छत्तीसगढ़ ने केन्द्र से गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्न वितरण तीन माह से बढ़ाकर छह माह करने का अनुरोध किया है।

राज्य के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने सोमवार को केन्द्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान यह अनुरोध किया।श्री पासवान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश के विभिन्न राज्यों में खाद्यान्न भण्डारण और वितरण व्यवस्था की समीक्षा की।। श्री भगत ने छत्तीसगढ़ में खाद्यान्न का भण्डारण और वितरण सहित कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया।

श्री भगत ने बताया कि छत्तीसगढ़ में 13 हजार 308 उचित मूल्य की दुकानों में से 12 हजार 200 उचित मूल्य की दुकानों में अप्रैल एवं मई दोनों माह का खाद्यान्न का भण्डारण हो चुका है और लगभग 90 प्रतिशत राशनकार्डधारी परिवारों को दो माह का खाद्यान्न वितरण किया जा चुका है। श्री भगत ने बताया छत्तीसगढ़ सहित अन्य प्रदेशों के रूके हुए श्रमिकों और गरीब वर्गों को निःशुल्क भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।राज्य में प्रतिदिन लगभग करीब डेढ लाख लोगों को इन शिविरों के माध्यम से भोजन और राशन प्रदान किया जा रहा है।

इस मौके पर श्री भगत ने केन्द्रीय मंत्री पासवान से छत्तीसगढ़ में संचालित राहत शिविरों के लिए 15 हजार मीट्रिक टन चावल एवं 5 हजार मीट्रिक टन दाल रियायती दर पर उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। श्री भगत ने कहा कि भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत जारी राशनकार्डधारी 51 लाख 49 हजार 899 परिवारों को तीन माह तक निःशुल्क चावल देने का निर्णय लिया गया है। इसे बढ़ाकर छह माह तक निःशुल्क चावल देने का अनुरोध भी किया। श्री भगत ने कहा कि जन-जीवन सामान्य होने में कुछ समय लग सकता है। गरीबों को राहत देने के लिए छह माह तक निःशुल्क चावल दिया जाना जरूरी है।