breaking news New

120 गांव के 200 तालाब भरे जाएंगे गंगरेल के पानी से, जल की मात्रा बढ़ाने पर मंथन

120 गांव के 200 तालाब भरे जाएंगे गंगरेल के पानी से, जल की मात्रा बढ़ाने पर मंथन

राजकुमार मल

भाटापारा- अभी भी धीमा है जल प्रवाह। इसे देखते हुए बांध से जल की मात्रा बढ़ाने पर मंथन का दौर चलने की खबर आ रही है। यह इसलिए क्योंकि जल बहाव की स्थिति को देखते हुए तालाब भरने का लक्ष्य पूरा कर पाना असंभव सा प्रतीत हो रहा है।


निस्तारी पानी की मात्रा को ध्यान में रखकर भाटापारा शाखा नहर प्रबंधन के प्रस्ताव पर गंगरेल बांध से पानी का दिया जाना चालू हो चुका है। मात्रा कम थी। अंदेशा था टेल एरिया तक नहीं पहुंचने का। यह अब लगभग सही दिखाई दे रहा है। मैदानी रिपोर्ट का जब परीक्षण किया गया, तब इसे सही पाया गया। अब बांध से जल की मात्रा बढ़ाने पर विचार चलने की खबर है ताकि लक्ष्य के मुताबिक निस्तार के लिए तालाबों को भरा जा सके।

कितने गांव, कितने तालाब

गंगरेल बांध से छोड़ा जा रहा पानी, निस्तार की समस्या को काफी हद तक दूर करेगा। भाटापारा शाखा नहर के माध्यम से आ रहे, इस पानी से बलौदा बाजार जिले के छह विकासखंड के लगभग 120 गांव के 200 तालाबों को भरे जाने का लक्ष्य है।

रायपुर जिला भी लाभान्वित



राजधानी रायपुर जिले का आरंग और धरसींंवा विकासखंड भी इस सुविधा से लाभान्वित हो रहा है। भाटापारा शाखा नहर प्रबंधन का प्रयास है कि टेल एरिया के हिस्से में आने वाले इस क्षेत्र को भी समुचित लाभ, समय रहते मिल जाए। लिहाजा इन दोनों विकासखंड को भी निस्तारी पानी का दिया जाना चालू हो चुका है। साथ ही सभी ग्राम पंचायतों को नहरों की निगरानी बढ़ाने के निर्देश दिए जा चुके हैं।

दूर होगी यह दिक्कत

जल प्रबंधन की देखरेख कर रहे, भाटापारा शाखा नहर प्रशासन की सूचना पर गंगरेल जलाशय प्रशासन ने यह पाया है कि नहरों में छोड़े जा रहे पानी की मात्रा पर्याप्त नहीं है। कमजोर मात्रा की वजह से जल बहाव गति नहीं ले पा रहा है। इसलिए पूरी रिपोर्ट मुख्यालय भेजते हुए पानी की मात्रा बढ़ाने की अनुमति मांगी है। संकेत सकारात्मक जवाब के ही मिल रहे हैं।

मात्रा बढ़ाने का प्रस्ताव

जल प्रवाह की गति को देखते हुए मात्रा बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा गया है। अनुमति मिलते ही लक्ष्य के अनुरूप तालाबों को भरा जा सकेगा।

- के के खरे, एसडीओ, भाटापारा शाखा नहर, तिल्दा