breaking news New

सूरजपुर : कोयला मजदूर सभा फेडरेशन के अध्यक्ष ने पीडीपीटी प्रशिक्षुओं की संख्या बढ़ाने एसईसीएल से की मांग

सूरजपुर :  कोयला मजदूर सभा फेडरेशन के अध्यक्ष ने पीडीपीटी प्रशिक्षुओं की संख्या बढ़ाने एसईसीएल से की मांग

सूरजपुर। कोयला मजदूर सभा फेडरेशन के अध्यक्ष कोल इंडिया के जेबीसीसीआई सदस्य एसईसीएल कंपनी के महामंत्री नाथूलाल पांडेय ने पोस्ट डिप्लोमा प्रैक्टिकल ट्रेनिंग पदों में वृद्धि समेत एसईसीएल कर्मचारी एवं पूर्व कर्मचारियों के पुत्र पुत्रियों को मिलने वाली वरीयता को लागू करने हेतु एसईसीएल डायरेक्टर पर्सनल को पत्र प्रेषित कर मांग की है। 

एसईसीएल कंपनी के द्वारा बीते वर्ष के भांति प्रतिवर्ष इस वर्ष भी पोस्ट डिप्लोमा प्रैक्टिकल ट्रेनिंग (पीडीपीटी) हेतु आवेदन आमंत्रित की गई है। परन्तु इस वर्ष कंपनी के द्वारा पीडीपीटी प्रशिक्षुओं की संख्या में कटौती कर दी गई है। वही अप्रेंटिस अधिनियम 1968 के प्रावधानों के तहत एसईसीएल कर्मचारियों एवं पूर्व कर्मचारियों के पुत्र-पुत्रियों को मिलने वाली प्राथमिकता को भी समाप्त कर दिया गया।

जिसको लेकर कोयला मज़दूर सभा फेडरेशन के अध्यक्ष, जेबीसीसीआई सदस्य एवं एसईसीएल के महामंत्री नाथूलाल पांडेय ने एसईसीएल के डायरेक्टर पर्सनल को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि बीते वर्ष एसईसीएल कंपनी के द्वारा पोस्ट डिप्लोमा प्रैक्टिकल ट्रेनिंग हेतु 1050 आवेदन अधिसूचित किए गए थे। परंतु इस वर्ष पदों में कटौती कर संख्या घटाकर 310 कर दिया गया है।

वही बीते वर्ष तक प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले एसईसीएल कर्मचारी एवं पूर्व कर्मचारियों के पुत्र पुत्रियों को वरीयता प्रदान दी जा रही थी। जिसमें इस वर्ष कंपनी के द्वारा नियम में बदलाव कर उन्हें वंचित कर दिया जा रहा है। जिससे कर्मचारियों एवं उनके परिजनों को काफी परेशानियों का सामना उठाना पड़ रहा है। उन्होंने डायरेक्टर पर्सनल से अनुरोध किया है कि उपायुक्त पदाधिकारियों से आवश्यक स्वीकृति लेकर पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी पीडीपीटी के लिए कम से कम 1100 पद किया जाए। वही एसईसीएल कर्मचारियों पूर्व कर्मचारियों के पुत्र पुत्रियो को मिलने वाली वरीयता को भी पुन: लागू किया जाए।