सक्ती : कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला कोविड-19 कोर कमेटी की बैठक आयोजित

सक्ती :  कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला कोविड-19  कोर कमेटी की बैठक आयोजित

डेडिकेटेड कोविड-19 हॉस्पिटल में संक्रमित मरीजों के इलाज की मुकम्मल व्यवस्था सुनिश्चित करें - कलेक्टर

    कोविड-19 मरीजों की देखभाल गंभीरता करने के निर्देश,

 सक्ती।  कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में आज कलेक्टर  यशवंत कुमार की अध्यक्षता में जिला कोविड-19 , कोर कमेटी की बैठक आयोजित की गईं।  जिसमें  डेडिकेटेड कोविड-19 अस्पताल में संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए सभी चिकित्सा उपकरण चालू हालत में रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने ड्यूटी करने वाले चिकित्सक, मेडिकल स्टाफ को अपने दायित्वों का सकारात्मक निर्वहन करते हुए संक्रमित मरीजों का समुचित इलाज सुनिश्चित करने कहा। 

       कलेक्टर ने कोविड-19 अस्पताल में मरीजों की देखभाल के लिए प्रतिदिन 6 राउण्ड लगाने के निर्देश दिए।   इसी प्रकार आइसोलेशन सेंटर में भी संक्रमित मरीजों की सतत निगरानी के निर्देश चिकित्सा अधिकारियों को दिए।  

       ड्यूटी में लापरवाही करने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई-

      कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा कोविड-19 सेंटर के मानव संसाधन प्रभारी अधिकारी को निर्देशित कर कहा कि डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर में जिन चिकित्सा स्टाफ की ड्यूटी लगाई गई है, यह सुनिश्चित करें कि अपनी ड्यूटी पर समय पर उपस्थित हों। उन्होंने कहा कि किसी भी चिकित्सक, स्टाफ द्वारा अपने दायित्वों के निर्वहन में कोताही बरती जाती है तो उनके खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराएं।

   हड़ताली संविदा कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई -

   बैठक में कलेक्टर ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत विभिन्न पदों पर कार्यरत संविदा कर्मियों द्वारा हड़ताल वापस नहीं लेने की स्थिति में कार्रवाई करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से कहा कि वे हड़ताली संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर लें।

अवधि पूर्ण होते ही होम आइसोलेशन के मरीजों को डिस्चार्ज करें-

 कलेक्टर ने बैठक में कहा कि जिले में होम आईसोलेशन में रह रहे संक्रमित मरीजों के होम आइसोलेशन की नियत अवधि 14 दिन पूर्ण होने पर उन्हें होम आइसोलेशन से मुक्त करने सूचित करें। कलेक्टर ने कहा कि होम आइसोलेशन के मरीजों से चिकित्सक स्वयं संपर्क में रहे तथा उनका उचित चिकित्सकीय मार्गदर्शन करें। कलेक्टर ने आइसोलेशन सेंटर प्रभारी   दोनों डिप्टी कलेक्टर से कहा कि वे भी मरीजों से  सतत संपर्क  बनाए रखें और उनकी देखभाल सुनिश्चित कराएं। 

     क्रिटिकल केस के संबंध में कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से कहा कि वे कोविड-19 केयर सेंटर में ब्लड टेस्ट, एक्सरे, एंबुलेंस,  ऑक्सीजन सिलेंडर सहित स्वास्थ्य जांच की अन्य सभी सुविधाओं उपलब्ध हो सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने सीएमएचओ से कहा कि वे स्वास्थ्य केंद्रों से चिकित्सक और चिकित्सा स्टाफ की समान दिवस के लिए ड्यूटी लगाएं ।

 जिले में लॉकडाउन 25 सितंबर से -

   बैठक में कलेक्टर ने बताया कि जांजगीर-चांपा जिले में 25 सितंबर से लॉक डाउन लगाया जाएगा।  कलेक्टर ने लाकडाऊन लागू होने के पूर्व सभी आवश्यक प्रशासनिक तैयारियां सुनिश्चित करने कहा। लाकडाऊन के संबंध में शीघ्र ही विस्तृत आदेश जारी किए जा रहे हैं।

     बैठक में कोविड-19 नोडल अधिकारी एवं सीईओ जिला पंचायत  तीर्थराज अग्रवाल, डॉ अनिल जगत, डॉ पुष्पेंद्र लहरें, जिला सांख्यिकी अधिकारी श्रीमती पायल पांडे सहित कोर कमेटी के सदस्य  विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।