breaking news New

बंगाल में हो रही हिंसा के लिए टीएससी जिम्मेदार -डॉ. राजेंद्र दुबे

बंगाल में हो रही हिंसा के लिए टीएससी जिम्मेदार -डॉ. राजेंद्र दुबे

लोकतंत्र रक्षामंच ने प्रदेश के जिला कलेक्टरों के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपकर पश्चिम बंगाल में संवैधानिक व्यवस्थाएं स्थापित करने की मांग की
रायपुर । पश्चिम बंगाल में जिस तरह से टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा वहां की मुख्यमंत्री ममता बेनर्जी की शह पर चुनाव जीतने के बाद जिस तरह से चुन चुन कर भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्याएं करवाई गई वह घोर निंदनीय है भाजपा कार्यालय को आग के हवाले करना लोकतंत्र में विपक्ष की की आवाज को जबरिया बंद करने की साजिश है।
 उक्ताशय का आरोप लोकतंत्र रक्षामंच के प्रदेश संयोजक डॉ. राजेंद्र दुबे ने प्रेसक्लब रायपुर में आयोजित पत्रकारवार्ता में लगाया। पत्रकारवार्ता में डॉ. दुबे के साथ पूर्व राज्यसभा सदस्य नंदकुमार साय, प्रदेश के संघ कार्रवाह डॉ पुणेंदू सक्सेना, सामाजिक कार्यकर्ता बिसराराम यादव, परमशांति धाम के स्वामी परमात्मानंद, भारत सेवाश्रम के सचिव स्वामी शिव रूपानंद जनजाति गौरव समाज के अध्यक्ष एमडी ठाकुर, छत्तीसगढ़ बंग कल्याण समिति के संरक्षक सुभाष राय ने संयुक्त रूप से पत्रकारवार्ता में बताया कि पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशी घुसपैठियों को प्रवेश देकर ममता बेनर्जी पश्चिम बंगाल को दूसरा कश्मीर बनाने पर तुली हुई है जिसे भारत एवं प्रदेश का आम नागरिक बर्दाश्त नहीं करेगा। स्वामी परमात्मानंद ने गहरा आक्रोश जाहिर करते हुए बताया कि हिंदूओं को पश्चिम बंगाल में बुरी तरह प्रताडि़त किया जा रहा है। बहन बेटियों की इज्जत बाहर से आए घुसपैठियों द्वारा बर्बाद की जा रही है। एक समुदाय विशेष को मुख्यमंत्री द्वारा बढ़ावा देना लोकतंत्र की हत्या करने के बराबर है। भाजपा कार्यकर्ता अभिजीत सरकार मोमिन मोइत्रा, हराधीन राय, चंदनराय, होरोम अधिकारी, शोवारानी मंडल, अरूप रूईदास की बर्बर हत्या ने विपक्ष की आवाज को कमजोर किया है। सीबीआई कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान जिस तरह से पश्चिम बंगाल के गृहमंत्री भीड़ इक_ा कर नोरबाजी करवाई उस पर भी सुप्रीम कोर्ट ने आपत्ति जताई है लोकतंत्र रक्षामंच के कार्यकर्ताओं ने आज संयोजक डॉ. राजेंद्र दुबे के नेतृत्व में प्रदेश के जिला कलेक्टरों को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर पश्चिम बंगाल में संवैधानिक व्यवस्थाएं पुन: स्थापित करने की मांग की है। साथ ही वहां पर मुख्यमंत्री द्वारा चलाए जा रहे निरंकुशवाद पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की मांग की है। पत्रकारवार्ता में शहर के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।