breaking news New

महीनों से बंद पड़ा है सोलर पावर प्लांट लाइट ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर

महीनों से बंद पड़ा है सोलर पावर प्लांट लाइट ग्रामीण अंधेरे में रहने को मजबूर


जंगली जानवरों का बना रहता खतरा, बच्चों के पढ़ाई लिखाई भी हो रही प्रभावित

चंद्र प्रकाश साहू

सुरजपुर, 8 फरवरी। जिले के क्रेडा विभाग के पूर्व प्रभारी अधिकारी के अनदेखी से क्रेडा विभाग जिले में चरमराई हुई है। वनांचल क्षेत्रों में क्रेडा विभाग से लगे प्लांट वर्षो से बंद पड़े है। जिसका सुध लेने वाला कोई नहीं है। और ग्रामीण अंधेरे में जीवन बसर करने को मजबूर है। 

गौरतलब है कि जिले के विकासखंड ओड़गी के दूरस्थ क्षेत्र चांदनी बिहारपुर के ग्राम पंचायत महुली के पहाड़ पारा में क्रेडा विभाग के द्वारा विद्युत व्यवस्था के लिए सोलर पावर प्लांट स्थापित किया गया है। जो कई महीनों पूर्व से बैटरी बैंक व इनवर्टर खराब हो जाने के कारण प्लांट बंद पड़ा है। जिससे ग्रामीणों को अंधेरे में जीवन व्यतीत करने पर मजबूर हैं। ग्राम महुली के पहाड़पारा मैं लगभग 130 घरों में कई महीनों से अंधेरा छाया हुआ है ग्रामीणों नें केरोसिन के सहारे ढ़िबरी युग में जीवन जीने के लिए मजबूर हैं। 

सौभाग्य योजना के अंतर्गत हर घर में बिजली पहुंचाना है लेकिन एक ऐसी ग्राम पंचायत है जहां लाइट ना होने के कारण जंगली जानवरों बच्चों की पढ़ाई एवं स्वास्थ्य व्यवस्था सभी कुछ प्रभावित हो रहे हैं। यहां आए दिन जंगली जानवरों हाथीयों का आना जाना लगा रहता है जहां ग्रामीणों जंगली जानवर से अनहोनी होने का डर बना हुआ है। इस संबंध में सुधार के लिए पूर्व में ग्रामीणों ने जिला प्रशासन एवं क्रेडा विभाग के जिला अधिकारी एवं संभागीय अधिकारी को मौखिक एवं लिखित में सूचना दे चुके हैं लेकिन अब तक किसी भी प्रकार की सुधार के लिए कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है। सूरजपुर जिला मुख्यालय से दूरस्थ क्षेत्र ग्राम पंचायत महुली लगभग 120 किलोमीटर दूर है। 

 दूरस्थ क्षेत्र में संसाधनों का अभाव छात्रों को हो रही है भारी परेशानी

ग्रामीण क्षेत्र होने के कारण यहां संसाधनों का अभाव है ऐसे में ग्रामीणों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है बिजली नहीं होने से सबसे अधिक समस्या छात्रों को हो रही है इससे उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है अभी एग्जाम एकदम नजदीक है जिससे बच्चों के भविष्य को काफी प्रभाव पड़ सकता है।