breaking news New

News....पूर्व विधायक राजकमल सिंघानिया का जन्मदिन समर्थकों ने मनाया, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत सहित समर्थकों ने फोन करके दी बधाईयां

News....पूर्व विधायक राजकमल सिंघानिया का जन्मदिन समर्थकों ने मनाया, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत सहित समर्थकों ने फोन करके दी बधाईयां

जनधारा समाचार
रायपुर. पूर्व विधायक और वरिष्ठ कांग्रेस नेता राजकमल सिंघानिया के समर्थकों ने आज उनका जन्मदिन उमंग और हर्षोल्ल्सास के साथ मनाया. समर्थक और पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनके चिरायु और यशस्वी होने की कामना की. मंदिरों में पूजा अर्चना की गई तथा घर में समर्थकों ने केक काटकर उनका जन्मदिन मनाया.


सिंघानिया ने अपने जन्मदिन की शुरूआत भगवान की पूजा अर्चना कर, उनका आर्शीवाद लेकर की. प्रदेशभर से पार्टी के बड़े नेताओं, कार्यकर्ताओं, समर्थकों ने उन्हें फोन करके जन्मदिन की बधाईयां दी. सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत व गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने भी सिंघानिया को जन्मदिन की बधाईयां, शुभकामनाएं दीं.

पूर्व विधायक राजकमल सिंघानिया के समर्थकों ने बलौदाबाजार, कसडोल, पलारी, भाटापारा और राजधानी से फोन करके और प्रत्यक्ष मुलाकात करके उनके जन्मदिन पर केक काटा तथा बधाईयां दीं. उनके आवास पर आज दिनभर चहलकदमी बनी रही. उनके दोनों बेटे ऋषि सिंघानिया और मनीष सिंघानिया के व्यापारिक प्रतिष्ठान से जुड़े व्यापारी बंधु भी सिंघानिया के निवास पर पहुंचे और उनके दीर्घायु होने की कामना की. चेम्बर आफ कॉमर्स और आटोमोबाइल्स क्षेत्र से जुड़े उनके शुभचिंतकों ने सिंघानिया के यशस्वी जीवन की कामना की और केक काटकर उनका जन्मदिन मनाया. इस अवसर पर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष, जनपद सदस्य अविनाश मिश्रा सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे.

कांग्रेस के बड़े दिग्गजों का आर्शीवाद मिलता रहा

पूर्व विधायक राजकमल सिंघानिया पार्टी के कददावर नेताओं में गिने जाते हैं. सिंघानिया की सक्रियता अभी भी बनी हुई है. बलौदाबाजार, कसडोल और भाटापारा का दौरा करते रहते हैं साथ ही अंचल की समस्याओं को लेकर संघर्ष भी कर रहे हैं. हाल ही में उन्होंने पूर्व विधायकों की पेंशन बढ़ाने का अभियान चलाया था जिसमें उन्हें पूरी सफलता मिली. उन्होंने बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर वे युवावस्था से ही कांग्रेस पार्टी से जुड़ गए. यह यात्रा अनवरत जारी है. सिंघानिया को 1991 में पार्टी से रायपुर से टिकट मिली थी लेकिन वे बहुत ही कम मतों से चुनाव हार गए थे लेकिन बाद में दो बार कसडोल से कांग्रेस के विधायक रहे. इस दौरान उन्हें स्व.इंदिरा गांधी, स्व.विद्याचरण शुक्ल, स्व.अर्जुनसिंह, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्वि​जय सिंह के साथ राजनीति सीखने या उनके साथ काम करने का अनुभव हासिल हुआ.