breaking news New

डस्टबिन मामले में नगर पालिका अधिकारी जवाब देने से हो रहे भयभीत - जैकी कश्यप

डस्टबिन मामले में नगर पालिका अधिकारी जवाब देने से हो रहे भयभीत - जैकी कश्यप


 भाजपा पार्षदों का आरोप डस्टबिन कम लगा कर ज्यादा बता रहे जवाबदार अधिकारी गिनती करवा कर हिसाब मिले सबको
नारायणपुर।  नगर पालिका परिषद की बैठक में भाजपा पार्षदों के द्वारा नगर में लगाए गए डस्टबिन की जानकारी मांगा गया जिसमें नगर पालिका के जवाबदार अधिकारी और नगर पालिका अध्यक्ष द्वारा डस्टबिन क्रय की जानकारी नहीं है ऐसा कह के पल्ला झाड़ा और अपनी जिम्मेदारी से बचते नजर आए पूर्व में भी भाजपा पार्षद रोशन गोलछा द्वारा डस्टबिन  के नंबरिंग  करने के लिए लिखित आवेदन दिया गया था जिससे सफाई कर्मचारियों को सफाई करने में सुविधा होगी वह भी आज तक नहीं हो पाया है भाजपा पार्षदों से पालिका में भेदभाव होता देख नगर पालिका नेता प्रतिपक्ष जैकी कश्यप के द्वारा ज्ञापन देकर जानकारी मांगा गया जो जानकारी 3 दिन में उपलब्ध कराने की थी 10 दिवस बीत जाने के बाद भी उपलब्ध नहीं कराया गया है नेता प्रतिपक्ष ने बताया कि नगर पालिका के द्वारा डस्टबिन क्रय करने या वह डस्टबिन किस मद से लगा यहाँ से लगा प्रदेस सरकार ने भेजा जानकारी लेनी चाही और इसमे क्या प्रक्रिया की गई है इसमें यह भी नहीं देखा गया कि कहां-कहां उपयोग किया जाएगा डस्टबिन  मापदंड के अनुकूल जो डस्टबिन  बाजार मूल्य से कई गुना ज्यादा राशि में खरीदे जानी की संभावना है छल कपट करते हुए अपने चहेते सप्लायर को अधिक मूल्य में क्रय करने का आदेश दिया गया होगा इस पूरी प्रक्रिया मे टेंडर को मैनेज करने के लिए ऐसी शर्त डाली गई जिसमें स्वस्थ प्रतिस्पर्धा ना हो सके वास्तव में निर्माता इस में भाग नहीं ले सके नगर पालिका प्रशासन के जवाबदारों के द्वारा चिन्हित सप्लायर  ही  प्रकिया में भाग ले सकें सप्लायर ने भी मापदंड के हिसाब से घटिया डस्टबिन  सप्लाई किया जब यह बात विपक्ष के पार्षदों को पता चली तो  नेता प्रतिपक्ष के नेतृत्व में हल्ला मचा डस्टबिन  की खरीदी की फाइल को दबा दिया गया एवं नेता विपक्ष के द्वारा  मांगे गए जवाब इतने भयभीत क्यों हैं कि विपक्ष जनप्रतिनिधियों की जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है इस पूरे मामले में जांच कर सप्लायर को ब्लैक लिस्टेड करना चाहिए अब विपक्ष मांग करती है कि नगर पालिका में लगे सभी डस्टबिन की गिनती भाजपा के पार्षदो की मौजूदगी में समिति बना कर गिनती करवाये ऐसा नहीं होने पर उग्र आंदोलन किया जाएगा।