अमेरिका के बाद ब्रिटेन और फ्रांस ने भी चीन से पूछा, कैसे फैला कोरोना

अमेरिका के बाद ब्रिटेन और फ्रांस ने भी चीन से पूछा, कैसे फैला कोरोना


पेइचिंग। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना को चाइना वायरस कहा  था तो चीन ने उनका जबर्दस्त विरोध किया। लेकिन, अब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थाई सदस्य को तौर पर चीन के साथ बैठने वाले दुनिया के दो ताकतवर देशों, ब्रिटेन और फ्रांस ने भी कोरोना पर चीन से सवाल किया  हैं।  ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन का कामकाज संभाल रहे विदेश मंत्री डॉमिनिक राब और फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैनुअल मैक्रों ने चीन पर सीधे सवाल दागे हैं।

ब्रिटेन के फॉरन सेक्रटरी डॉमिनिक राब ने तो यहां तक कह दिया कि इस त्रासदी का असर चीन के साथ संबंधों पर पड़ सकती है। उन्होंने कहा है कि ब्रिटेन महामारी फैलने के कारणों की गहन जांच की मांग करेगा और यह भी जानना चाहेगा कि इसे पहले रोकने की कोशिश क्यों नहीं की गई? प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की गैरमौजूदगी में राब ने यह प्रतिक्रिया G7 देशों की टेलिफोन वार्ता के बाद दी।

उन्होंने  कहा, इस बारे में कोई शक नहीं है कि इस संकट के बाद सामान्य तरीके से बिजनस नहीं किया जा सकेगा। हमें कड़े सवाल करने होंगे कि यह हुआ कैसे और इसे पहले क्यों नहीं रोका गया? वे बोले कि WHO और दूसरे अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर यह पता किया जाएगा कि महामारी फैली कैसे और इसे आगे से रोकने के लिए क्या किया जा सकता है?

chandra shekhar