breaking news New

म्यांमार का खदान हादसा: मिट्टी धंसने से 20 की मौत

म्यांमार का खदान हादसा: मिट्टी धंसने से 20 की मौत


काचिन। म्यांमार की एक खदान में बुधवार सुबह लैंडस्लाइड की वजह से 20 मजदूरों की मौत हो गई। राहत और बचाव दल राहत कार्य में जुटे हैं। रेस्क्यू टीम के मुताबिक, काचिन राज्य में हपाकांत की खदान में सुबह 4 बजे लैंडस्लाइड हुई। काचिन नेटवर्क डेवलपमेंट फाउंडेशन के अधिकारी ने बताया कि खदान का मलबा अपने साथ करीब 70 से 80 लोगों को झील में बहा ले गया।


रिपोर्ट्स के मुताबिक, बड़ी संख्या में लोग जख्मी हुए हैं। अब तक 25 घायलों को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। कुछ लोग नाव के जरिए खदान के पास की झील में लापता हुए लोगों को तलाश रहे हैं। वहीं, 200 से ज्यादा बचावकर्मी राहत कार्य में जुटे हुए हैं।
हपाकांत की खदानें हादसों की वजह से चर्चा में रहती हैं। इन खदानों में बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर काम करते हैं। कुछ वक्त पहले ही लैंडस्लाइड की वजह से यहां पर 6 लोगों की मौत हो गई थी। पिछले साल भी भारी बारिश की वजह से इस राज्य की एक खदान में लैंडस्लाइड हुआ था, जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई थी। 2016 में सत्ता संभालने के बाद आंग सान सू की सरकार ने उद्योग में काम करने वाले मजदूरों की सुरक्षा को लेकर कई वादे किए थे, लेकिन वादे सिर्फ वादे ही रह गए।
म्यांमार दुनिया में सबसे ज्यादा जेड उत्पादन करता है। सबसे बड़ा जेड उत्पादक होने के बाद भी यहां की खदानों पर सुरक्षा के बहुत कम इंतजाम रहते हैं। जेड या हरिताश्म एक चमकीला पारदर्शी हरा पत्थर है। यह पत्थर दो अलग अलग सिलिकेट खनिजों से बनाता है। इसे गहने के तौर पर पहना ही जाता है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल कमर और किडनी की बीमारियों के इलाज में भी किया जाता है।