breaking news New

सत्र के पहले विधानसभा अध्यक्ष ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा, 61 कर्मचारी निकले कोरोना संक्रमित

सत्र के पहले विधानसभा अध्यक्ष ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा, 61 कर्मचारी निकले कोरोना संक्रमित

भोपाल . मध्यप्रदेश विधानसभा के सामयिक अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने सोमवार से प्रारंभ हो रहे विधानसभा के शीतकालीन सत्र से पहले आज यहां सदन की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस बीच 61 अधिकारी कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार विधानसभा के प्रमुख सचिव ए पी सिंह ने भी सामयिक अध्यक्ष के साथ व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

सामयिक अध्यक्ष श्री शर्मा ने इस मौके पर कहा कि सत्र की कार्यवाही के संचालन के दौरान कोविड.19 संबंधी सभी मापदंडों का पालन सुनिश्चित किया जाएगा। श्री शर्मा ने कहा कि सदन में सदस्यों की बैठक व्यवस्था का निरीक्षण किया गया है। सदन में एक ही द्वार से सभी सदस्यों को प्रवेश करना होगा। इसके साथ ही सदन की कार्यवाही में सहयोग करने वाले अधिकारी कर्मचारी भी निर्धारित द्वार से ही सदन में प्रवेश कर सकेंगे। लॉबी के बाद बैठक सभागार में प्रवेश के लिए भी एक ही द्वार निर्धारित किया गया है।

 शर्मा ने बताया कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सदन में बैठक व्यवस्था की गई है। विधानसभा के मुख्य सभागार के साथ ही दीर्घाओं में भी सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की जाएगी। कुल मिलाकर 105 सदस्य और अधिकारी कर्मचारी कार्यवाही के दौरान भीतर बैठक सकेंगे।

 शर्मा ने बताया कि विधानसभा सत्र के पहले ऐहतियातन करायी गयी जांच में 61 अधिकारी कर्मचारी कोविड संक्रमित पाए गए हैं। इसके साथ ही कुछ सदस्य भी कोविड पाजिटिव पाए गए हैं। कोविड पाजिटिव सदस्य एवं अधकारी कर्मचारियों को विधानसभा में प्रवेश नहीं मिलेगा। सदस्य वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से या वर्चुअल तरीके से विधानसभा की कार्यवाही में शामिल हो सकते हैं। उनकी उपस्थिति मान्य की जाएगी।

शर्मा ने बताया कि विधानसभा में सिर्फ विधायकों को ही प्रवेश दिया जाएगा। उनके साथ आने वाले गनमैन और सहायक को प्रवेश नहीं मिलेगा।

प्रमुख सचिव ए पी सिंह ने बताया कि विधायकों को अपने गनमैन और सहायक तथा वाहनचाल का भी कोविड.19 टेस्ट कराकर रिपोर्ट देना होगी। शीतकालीन सत्र के लिए अब तक 950 प्रश्न, 16 विधेयक, ध्यानाकर्षण 26, स्थगन की 18, शून्यकाल की 51 और अविलम्बनीय लाेक महत्व नियम 139 से संबंधित पांच सूचनाएं प्राप्त हुयी हैं।

शीतकालीन सत्र तीन दिवसीय है। हालाकि कोविड संबंधी मामलों के कारण इस संबंध में सर्वदलीय बैठक में विचार होने की भी संभावना है।