breaking news New

करोड़ों का the scam छुपाने BJP विधानसभा में जमा नहीं कर रही दस्तावेज

 करोड़ों का the scam छुपाने BJP विधानसभा में जमा नहीं कर रही दस्तावेज

नयी दिल्ली।  दिल्ली विधानसभा पर्यावरण समिति की अध्यक्ष आतिशी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईस्ट एमसीडी) कूड़ा निस्तारण के नाम पर हुए करोड़ों का घोटाला छुपाने के लिए विधानसभा में दस्तावेज जमा नहीं कर रही है।

भाजपा शासित ईस्ट एमसीडी ने गाजीपुर लैंडफिल साइट और कूड़ा निस्तारण के नाम पर करोड़ों का घोटाला किया है। दिल्ली विधानसभा कमेटी ने फिर से भाजपा शासित ईस्ट एमसीडी को नोटिस भेजकर कूड़ा निस्तारण संबंधित सभी टेंडर के कागजात जल्द जमा कराने को कहा है। विधानसभा के सामने जल्द दस्तावेज नहीं रखे गए तो ईस्ट एमसीडी के अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की जाएगी।

सुश्री आतिशी ने बुधवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली नगर निगम में पिछले 15 साल से भाजपा की सरकार है। दिल्ली को तीन कूड़े के पहाड़ भाजपा के 15 साल के कुशासन और भ्रष्टाचार की देन है। दिल्ली में जब भी कोई घुसता है तो सबसे पहले कूड़े के पहाड़ दिखते हैं। गाजीपुर के कूड़े का पहाड़ की ऊंचाई कुतुबमीनार तक पहुंच गई है। गाजीपुर की लैंडफिल साइट पर 140 लाख टन कूड़ा पड़ा हुआ है। ईस्ट एमसीडी के पास उसका कोई भी समाधान नहीं है। इस गाजीपुर लैंडफिल साइट पर गर्मियों में लगातार आग लगी रहती है। पिछले तीन हफ्ते में दो बार आग लग चुकी है। पूरे आसपास के क्षेत्र में जहरीला धुआं फैल जाता है।

उन्होंने कहा कि इसी वजह से पूर्वी दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों को दिल्ली विधानसभा की पर्यावरण समिति ने बुलाया था और उनसे पूछा था कि आप के पास आखिरकार क्या प्लान है इस कूड़े के पहाड़ को खत्म का और इसका समाधान निकालने का?

हर रोज जो कूड़ा इकट्ठा होता है वह कहां जाएगा, किस तरह से गाजीपुर के कूड़े के पहाड़ पर नया कचरा नहीं डालेंगे और किस तरह हम इस कचरे के पहाड़ को खत्म करेंगे, इसका क्या प्लान है? जब यह अधिकारी पर्यावरण समिति के सामने आए तो यह बिल्कुल स्पष्ट हो गया कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के पास इस गाजीपुर के कूड़े पहाड़ के समाधान का कोई भी तरीका नहीं है। उन्होंने खुद मान लिया उनके पास कोई टाइम बाउंड एक्शन प्लान नहीं है और उनके पास किसी भी तरह के प्लान को साकार करने के लिए पैसे नहीं हैं।

विधायक आतिशी ने कहा कि ऐसे में दिल्ली वालों का यह सवाल बनता है कि आखिर पैसे गए कहां। ऐसा क्या भ्रष्टाचार हुआ जिसकी वजह से जो पैसा दिल्ली सरकार पूर्वी दिल्ली नगर निगम को देती है वो खत्म हो गया।

इसके अलावा पूर्वी दिल्ली नगर निगम के पास जो पैसा प्रॉपर्टी टैक्स, पार्किंग, विज्ञापन के माध्यम से आता है, वह पैसा कहां गया। नगर निगम का एक इकलौता सबसे जरूरी काम है कूड़े का प्रबंधन और साफ सफाई का काम करना, ऐसे में पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने क्या घोटाला किया है कि इस काम को करने के लिए भी पैसे नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि पर्यावरण समिति को लगा कि कोई बहुत बड़ा घोटाला हो रहा है जिसकी वजह से पूर्वी दिल्ली नगर निगम कर रही हैं कि गाजीपुर में आने वाले कूड़े की समस्या का उनके पास कोई भी समाधान नहीं है।

दिल्ली विधानसभा की पर्यावरण समिति की अध्यक्ष ने कहा कि उस घोटाले को छुपाने के लिए पूर्वी दिल्ली नगर निगम कोई भी कागजात दिल्ली विधानसभा को नहीं देना चाह रही है। उन्हें दिख रहा है की अगर उन्होंने कागजात दे दिए तो बिल्कुल जगजाहिर हो जाएगा कि भाजपा ने पिछले 15 साल में कितना भ्रष्टाचार किया है।