breaking news New

इस संकट की घडी में 4 स्पेस्लिस्ट डक्टरों का तबादला, कोरोना की दूसरी लहर ने प्रशासन के दावे साबित हुए खोखले

इस संकट की घडी में 4 स्पेस्लिस्ट डक्टरों का तबादला, कोरोना की दूसरी लहर ने प्रशासन के दावे साबित हुए खोखले

कोरोना काल मे जंहा ज्यादा डक्टरों की जरूरत वँहा 4 स्पेस्लिस्ट डक्टरों के तबादले बस्तर के साथ ऐसा सौतेला बर्ताव क्यों-तरुणा बेदरकर
जगदलपुर। आम आदमी पार्टी नेत्री और बस्तर जिला अध्यक्ष तरुणा बेदरकर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बयान दिया कि एक माह से 4 स्पेस्लिस्ट डक्टरों का तबादला कर दिया गया अब तक उनके जगह पर नियुक्ति नही की गई या नए डाक्टर बस्तर के लिए नही भेजे गए।क्यों सरकार को इसका जवाब देना चाहिए कि इस कोरोना महामारी में जंहा अधिक डक्टरों की जरूरत है वँहा पर डक्टरों की नियुक्ति के बदले तबादले। बस्तर में इस कोरोना की दूसरी लहर ने प्रशासन के द्वारा किये गए सभी दावे सिर्फ खोखले  साबित हुए हैं।
1 साल से कोरोना के मामले  जिले के अंदर अपने अस्तित्व में है फिर भी अभी तक स्तिथि जस की तस बनी  हुई है।जिले का एक मात्र अस्पताल में आज भी बिगड़ी सिटी स्कैन मशीन का नही बन पाना अस्पताल प्रबंधन जिला प्रबंधन और सरकार की नाकामयाबी लापरवाही और नियत को दर्शाता है।आज इतने बड़े जिला अस्पताल में स्टाफ की कमी सफाई कर्मियों की कमी वार्ड बॉय की कमी का भयावह मंजर जब मरीज़ आवाज़ दे दे कर परेशान हो रहे उन्हें देखने या सुध लेने वाला कोई नही।ऐसी स्तिथि दुर्भाग्यपूर्ण  है बस्तर के लिए।
लगातार डिमरापाल अस्पताल को लेकर अव्यवस्थाओं को लेकर मरीजो कि गुहार सामने आ रही है पर किसी भी जन प्रतिनिधियों को कोई फर्क नही पड़ रहा है।बड़ा दुर्भाग्य है आज बस्तर वाशियों के लिए की आज दूर से आलीशान दिखने वाले महारानी अस्पताल और डिमरापाल अस्पताल में कोरोना के इलाज के नाम पर सिर्फ और सिर्फ औपचारिकता चल रही है कोई मरीज़ को छूने को तैयार नही । बड़ी विडंबना है परिजनों को भर्ती करने के बाद  नेता मंत्री जनप्रतिनिधि को असुविधा को लेकर अव्यवथाओ को लेकर गुहार लगानी पड़ रही है फिर भी स्तिथि जस की तस।आज कोरोना की इस भयावह स्तिथि के जिम्मेदार कौन सत्ता पक्ष अपने मे मस्त है विपक्ष बयान बाजी में मस्त है।और जनता कोरोना में त्रस्त है।