breaking news New

कोरोना संक्रमण के विस्फोट से रद्द होनी चाहिए बोर्ड परीक्षाएं -सुरेश गुप्ता

कोरोना संक्रमण के विस्फोट से रद्द होनी चाहिए बोर्ड परीक्षाएं -सुरेश गुप्ता

जगदलपुर ।  भारतीय जनता पार्टी जगदलपुर शहर मंडल के अध्यक्ष सुरेश गुप्ता एवं महामंत्री संग्राम सिंह राणा ने संयुक्त रूप से एक बयान जारी किया है जिसमें कहा गया है कि देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते केस के कारण बोर्ड परीक्षाएं स्थगित होनी चाहिए। बच्चों की सुरक्षा के लिए परीक्षाएं रद्द होनी चाहिए।

छत्तीसगढ़ सरकार के मुख्यमंत्री, स्थानीय सांसद, विधायको से यह मांग करते हैं कि दसवीं और बारहवीं की विद्यार्थियों को सरकार चाहे तो प्रमोट करें और बिना परीक्षा के ही पास करने के भी मांग नगर मंडल भाजपा करता है ।बस्तर जिले में पढऩे वाले बच्चे दूसरे प्रदेश या जिला से भी आकर पढ़ाई करते हैं चाहे उड़ीसा हो दंतेवाड़ा ,बीजापुर या बकावंड, भानपुरी ,बस्तर जैसे जगह से आकर जगदलपुर की स्कूलों में दाखिला लेकर पढ़ाई कर रहे हैं। इस कोरोना काल में बाहर से आकर परीक्षा दिलवाने में अभिभावक भी बच्चों के साथ सेंटर तक पहुचेंगे, दूसरे जिलों से अभिभावकों को अपने बच्चों के लेकर आना इनके रुकने की व्यवस्था करना कोरोना संक्रमण में खतरे से खाली नहीं है। बच्चों की जान खतरे पर रखना उचित नहीं होगा।

इसी कारण भारतीय जनता पार्टी नगर मंडल यह मांग करता है कि 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाएं को रद्द करें या इसे आगे बढ़ाया जाए। देशभर में कोरोना के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं ।छत्तीसगढ़ सरकार से बोर्ड परीक्षा को रद्द करने या स्थगित करने का अनुरोध नगर मंडल भाजपा करता है ।भारत में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या लाखों में है, उसी प्रकार पूरे छत्तीसगढ़ में हजारों की संख्या में मामले आ रहे हैं ।उसके बाद भी बोर्ड एग्जाम कराया जाना समझ से परे है। बोर्ड एग्जाम रद्द होना चाहिए, बहुत सारे छात्र ऐसे हैं जो ऑफलाइन एग्जाम देने के लिए तैयार नहीं है, परीक्षा लेनी ही है तो ऑनलाइन परीक्षा आयोजित किया जाए। भीड़ का कारण बनने वाली किसी भी चीज से बचना चाहिए।

ऑफलाइन परीक्षा होती है तो हम बहुत बड़ा जोखिम उठा रहे हैं, जबकि समस्त बच्चे साल भर ऑनलाइन पढ़ाई की है इसलिए परीक्षा लेनी ही है तो ऑनलाइन ही परीक्षा ले ।अगर बच्चे कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाते हैं तो इसके लिए कौन जवाबदार होगा ? सेंटर में 3 घंटे मास्क लगाकर परीक्षा देनी होगी तो वह इस गर्म मौसम में कितना व्यावहारिक है।