breaking news New

दुर्गम इलाकों में अब ड्रोन से होगी वैक्सीन की डिलीवरी

दुर्गम इलाकों में अब ड्रोन से होगी वैक्सीन की डिलीवरी


नई दिल्ली। केंद्र और राज्य सरकारें अब ड्रोन से वैक्सीन डिलीवरी पर विचार कर रही हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने इस प्रोजेक्ट के लिए कंपनियों से बिड मांगी हैं। सरकार ये कदम उन इलाकों में वैक्सीन डिलीवरी के लिए उठा रही है, जहां सामान्य तरीकों से वैक्सीन पहुंचाने में मुश्किल आ रही है। इस बीच तेलंगाना सरकार ने मेडिकल सप्लाई के लिए ड्रोन डिलीवरी प्रोजेक्ट को लॉन्च कर दिया है ताकि पता लगाया जा सके कि ये सिस्टम काम करेगा या नहीं।
तेलंगाना सरकार के इस प्रोजेक्ट में फ्लिपकार्ट और डुंजो ने मदद करने का ऐलान किया है। ये डिलीवरी सिस्टम को डेवलप करेंगे और वैक्सीन डिलीवरी की स्कीम को आगे बढ़ाएंगे।
11 जून को आईसीएमआर की तरफ से जारी टेंडर में कहा गया है कि हर जगह तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए एक ऐसा सिस्टम डेवलप करने पर विचार किया जा रहा है, जिसमें ड्रोन के जरिए डिलीवरी की जा सके। ये डिलीवरी उन चुनिंदा इलाकों के लिए होगी, जहां वैक्सीन पहुंचाना मुमकिन नहीं हो पा रहा है। ये टेंडर एचएलएल इन्फ्राटेक सर्विस लिमिटेड के जरिए सामने आया है। ये टेंडर कानपुर आईआईटी की एक स्टडी के साथ जारी किया गया है, जिसमें अनमैन्ड एरियल व्हीकल के जरिए वैक्सीन डिलीवरी के अच्छे रिजल्ट सामने आए थे। अप्रैल में मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने आईसीएमआर को आईआईटी कानपुर के साथ इस स्टडी की मंजूरी दी थी।
केंद्र सरकार ने 20 कंपनियों का चयन किया था, जिन्हें आईसीएमआर की शर्तों के मुताबिक ड्रोन डिलीवरी का प्रयोग करना था। आईसीएमआर ने शर्त रखी थी कि डिलीवरी उन इलाकों में की जाए, जो दिखाई नहीं देते हैं। पर अभी तक किसी भी कंपनी ने इस तरह का ऑपरेशन नहीं किया है, क्योंकि मौजूदा नियमों के मुताबिक, वे उन्हीं इलाकों में अपने ड्रोन ऑपरेट कर सकते हैं, जो विजुअल रेंज में होते हैं।