कर्मवीरों को सम्मानित कर जैन समाज ने मनाई महावीर जयंती

कर्मवीरों को सम्मानित कर जैन समाज ने मनाई महावीर जयंती

चौक-चौराहों पर फल वितरण

भानुप्रतापपुर, 6 अप्रैल। जैन धर्म के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी की जयंती आज सोमवार को जैन समाज भानुप्रतापपुर के द्वारा हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर समाज प्रमुखों ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे ऐसे डॉक्टर पुलिस पत्रकारो एवं सफाई कर्मचारियों का तिलक लगाकर सम्मान किया उनका मनोबल को बढ़ाया। श्री अमोलक सिह ढिल्लों एसडीओपी भानुप्रतापपुर का सम्मान करते हुए साथ ही नगर में फल व लस्सी वितरण कर  किया गया।

समाज प्रमुखों ने बताया कि भगवान महावीर को वीर, वर्धमान, अतिवीर और सन्मति के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने अपने जीवन में तप और साधना से नए प्रतिमान स्थापति किए। उन्होंने जैन समुदाय के अनुयायियों के लिए पांच ​सिद्धांत या पांच​ प्रतिज्ञा बताई है, जिनका पालन सभी को करना चाहिए।

भगवान महावीर ने समाज की सत्य, अहिंसा, प्रेम व करुणा का संदेश दिया है। उन्होंने अहिंसा को सभी धर्मों के लिए सर्वोपरि बताया है। उनका मूलमंत्र था जीवो ओर जीनो दो की रही है उनके सिद्धान्त व उपदेश आज भी प्रासंगिक है।