breaking news New

लॉक डाउन का फायदा उठाकर अंदरूनी क्षेत्रों में लकड़ी तस्कर सक्रिय बेखौफ चल रही कटाई

लॉक डाउन का फायदा उठाकर अंदरूनी क्षेत्रों में लकड़ी तस्कर सक्रिय बेखौफ चल रही कटाई


दंतेवाड़ा जिले लॉक डाउन का फायदा उठाकर अंदरूनी क्षेत्रों में लकड़ी तस्कर सक्रिय हो गए ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया जो कटेकल्याण ब्लॉक के गाटम पंचायत में सुरनार क्षेत्र 

 ईटा भट्टी का कारोबार जोरो से चल रहा है। लोग, सरकारी कामों के लिए अपनी मर्जी से अंदरूनी इलाकों में ईटा बनाने का काम कर रहे है। अवैध रूप से संचालित ईंटे भट्टी को पकाने के लिए कटेकल्याण क्षेत्र के गाटम पंचायत में जंगलों को भी नही छोड़ा जा रहा है।


जंगलो में सागौन इमारती महुआ के पेड़ों की दिनदहाड़े कटाई चल रही है.

वन विभाग अंदरूनी क्षेत्रों की दुहाई देते हुए इन इलाकों में छापे मार करवाई नहीं करता विभाग अपनी सक्रियता दिखाने के लिए छुटपुट कार्यवाही करता है। 


जिसकी वजह से लकड़ी तस्कर भूमाफिया के हौसले बुलंद है और दूरस्थ इलाकों में बेखौफ या धंधा फुल फल रहा है . 

जिसके कारण पर्यावरण का हो रहा नुकसान ईटा भट्टा लगाने के लिये पहले पर्यावरण विभाग से अनुमति लेनी पड़ती है। उसके पश्चात खनिज विभाग में आवेदन देना पड़ता है। यहां से अनुमति मिलने के पश्चात बताए गए नियत स्थान पर ईट बनाने का काम शुरू किया जाता है।