breaking news New

ट्राईफेड के प्रबंध निदेशक ने बस्तर जिले की इमली एवं काजू प्रसंस्करण के कार्यों की सराहना की

ट्राईफेड के प्रबंध निदेशक  ने बस्तर जिले की इमली एवं काजू प्रसंस्करण के कार्यों की सराहना की

जगदलपुर।  तीन दिवसीय बस्तर संभाग के प्रवास पर पहुंचे ट्राईफेड के प्रबंध निदेशक  प्रवीण कृष्णा ने आज जिले के बकावण्ड विकासखण्ड के ग्राम किंजोली में इमली प्रसंस्करण केन्द्र तथा बकावण्ड में काजू प्रसंस्करण केन्द्र का अवलोकन किया। 

प्रवीण कृष्णा ने इन दोनों स्थानों में इमली एवं काजू के प्रसंस्करण के कार्यों की भूरी-भूरी प्रसंशा की। उन्होंने किंजोली के इमली एवं विकासखण्ड मुख्यालय बकावण्ड स्थित ग्राम राजनगर के काजू के प्रसंस्करण के कार्यों को बढ़ावा देने तथा इस कार्य में लगे लोगों को उनके मेहनत का उचित दाम दिलाने हेतु सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही। 

उन्होंने बकावण्ड स्थित काजू प्रसंस्करण केन्द्र में कारखाना लगाने की बात कही। इसके अलावा उन्होंने ग्रामीणों की मांग पर इमली प्रसंस्करण केन्द्र किंजोली में गोदाम एवं समुचित मात्रा में शेड निर्माण के अलावा प्रोसेसिंग हेतु मशीन भी उपलब्ध कराने की जानकारी दी। उन्होंने मुख्य वन संरक्षक मोहम्मद शाहिद को इस कार्य की शुरूआत किंजोली से करने के निर्देश दिए। इस दौरान छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के प्रबंध निदेशकसंजय शुक्ला, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक  बी. आनंद बाबू, कलेक्टररजत बंसल, वनमण्डलाधिकारी सुश्री स्टायलो मण्ड़ावी सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

प्इस दौरान उन्होंने इमली प्रसंस्करण कार्य में लगे महिलाओं एवं मौके पर उपस्थित ग्रामीणों से बात-चीत भी की। उन्होंने इमली के महत्व के संबंध में जानकारी दी तथा इस कार्य में लगे महिलाओं को इमली के छोटे-छोटे पैकेट बनाने तथा इमली चस्का एवं इमली चटनी बनाकर विक्रय के लिए प्रोत्साहित किया, जिससे की इसकी आसानी से बिक्री होने के साथ-साथ उनका उचित दाम भी मिल सके।  प्रवीण कृष्णा ग्राम किंजोली के ग्रामीण ईशूराम के घर में पहंुचकर इमली तोड़ाई के कार्य का अवलोकन किया।

ट्राईफेड के प्रबंधक प्रवीण कृष्णा बकावण्ड स्थित ग्राम राजनगर के काजू प्रसंस्करण केन्द्र में पहुंचकर प्रसंस्करण के कार्यों का सुक्ष्मता से निरीक्षण किया। उन्होंने काजू प्रसंस्करण मशीन, ड्रायर मशीन, ग्रेडिंग मशीन, कुलिंग रूम आदि का अवलोकन किया। प्रवीण कृष्णा ने इस कार्य में लगे स्व-सहायता समूह के महिलाओं से बात-चीत भी की। उन्होंने काजू प्रसंस्करण केन्द्र में सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने तथा इसे औद्योगिक क्षेत्र में विकसित करने हेतु प्लान बनाने की भी जानकारी दी।