breaking news New

बिजली बिल नहीं पटाने से शहर की बत्ती गुल, भाजपा ने किया नगरपालिका का घेराव

बिजली बिल नहीं पटाने से शहर की बत्ती गुल, भाजपा ने किया नगरपालिका का घेराव

सुजीत वैदिक सुकमा। सुकमा नगर पालिक की लापरवाही के चलते बिजली विभाग ने शहर के स्ट्रीट लाइटों का कनेक्शन काट दिया है, जिसके बाद सड़कों पर अंधेरा छा गया। विद्युत विभाग ने लाखों रुपए का बिल जमा नहीं करने पर बिजली कनेक्शन काटने की कार्रवाई की। जिसके बाद सारी स्ट्रीट लाइटों की बत्ती गुल हो ई है। जिससे गली मोहल्लों में अंधेरा हो गया है। नगर पालिक निगम पर विद्युत विभाग कारीब 34 लाख रुपये से अधिक का बिजली बिल बकाया है। 

बिजली विभाग के अफसरों का कहना है कि अब जबतक बकाया राशि का 50 प्रतिशत से धिक भुगतान नहीं किया जाएगा। तब तक बिजली आपूर्ति बहाल नहीं होगी। जिससे बीजेपी ने 28 दिसम्बर तक लाईट बहाल न होने पर पालिका घेराव की धमकी दी थी जीसके चलते अव्यवस्था के चलते बीजेपी आक्रामक अंदाज में दिखी, पुलिस के साथ हुई झूमाझपटी भी हुई।

भाजपाइयों ने कहा- नगरपालिका की लापरवाही के चलते आमजन हो रहे परेशान। अभी तक नपा द्वारा नहीं किया गया हैंरहें बिल का भुगतान भाजपा जिला अध्यक्ष हूंगाराम मरकाम, वरिष्ठ भाजपा नेता मनोज देव, धनीराम बारसे, मंडल अध्यक्ष विनोद बैस, युवा नेता विवेक यादव, दिलीप पैददी सहित भाजपा के सभी पार्षद व बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहें। 

संजय सोडी:-जिला मंत्री सोढ़ी ने कहा कि पिछले सप्ताह भर से सुकमा के NH की स्ट्रीट लाइट, व वार्डों की स्ट्रीट लाइट की बत्ती गुल है। नगर पालिका की लापरवाही व गैरजिम्मेदाराना हरकतों से आज सुकमा पूरी तरह से अंधेरे में पसरा हुआ है।  जहाँ एक तरफ पूरा नगर पालिका सुकमा अंधेरे में है तो दूसरी तरफ राज्य के आबकारी मंत्री कवासी लखमा कोंटा नगर पंचायत चुनाव में करोड़ों रु फूंक डाले। सत्ता व नगर परिषद का पैसा का दुरुपयोग करने में नगर अध्यक्ष जगन्नाथ साहू भी पीछे नही रहे।  वे भी अपनी लाइटिंग वाली फ़ोटो जगह-जगह पर लगा कर नगर वासियों  का पैसों का दुरुपयोग कर रहे है।   

मनोज देव नेता (प्रतिपक्ष)

सुकमा नगर पालिका में नेता प्रतिपक्ष व बीजेपी नेता मनोज देव ने इस मामले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।  उन्होंने कहा नगर पालिका में कांग्रेस के नेता सिर्फ पैसा कमाने बैठे है, धरातल पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। क्रिसमस जैसे बड़े त्यौहार पर नगरपालिका की स्ट्रीट लाइट बंद रहना दुर्भाग्यपूर्ण है।  जबकि कांग्रेस के बड़े नेता अधिकांश इसी समुदाय व समाज से आते है। भाजपा कार्यकाल में सुकमा नगर पालिका में कभी भी ऐसा नही हुआ।