breaking news New

बातचीत से नहीं निकला कोई हल, बेरंग लौटे कलेक्टर मौर्य, ग्रामीणों ने तेज किया आंदोलन

बातचीत से नहीं निकला कोई हल, बेरंग लौटे कलेक्टर मौर्य, ग्रामीणों ने तेज किया आंदोलन

किसन लाल विस्वकर्मा

मगरलोड, 23 फरवरी। धमतरी जिले के मगरलोड विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत करेली बड़ी में इन दिनों ग्रामीण अवैध रेत खदान का विरोध कर रहे हैं।बड़ी संख्या में ग्रामीण गांव के सत्यनारायण मंदिर के सामने ठेकेदार और प्रशासनिक अमले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। 

इस प्रदर्शन के तीसरे दिन धमतरी जिले के कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य इन ग्रामीणों को मनाने करेली बड़ी पहुंचे जहां उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत कर इस अवैध खनन के संबंध में बातचीत की, कलेक्टर को वापस खाली हाथ लौटना पड़ा। कलेक्टर महोदय ने  बातचीत से हल निकालने के बजाय  ग्रामीणों को  खदान  बंद नहीं करने की हिदायत दी। उन्होंने ग्रामीणों को दो टूक जवाब देते हुए खदान बंद नहीं करने की बात कही। कलेक्टर और जिला प्रशासन के इस रवैया के बाद गुस्साएं ग्रामीणों ने आंदोलन और तेज कर दिया। 


ग्रामीणों का कहना है कि जिला प्रशासन बातचीत से हल निकालने के बजाय खदान बंद नहीं करने की बात कह रही है। इससे साफ जाहिर होता है कि कि ठेकेदार और जिले के अधिकारियों की मिलीभगत है। इसके साथ ही सांठगांठ से या खदान चल रहा है। जबकि इस खदान में एनजीटी और राज्य सरकार के तमाम नियमों को उल्लंघन किया जा रहा है। देखने वाली बात होगी की आने वाले समय में यह खदान चलता है या नहीं। 

बता दे कि जिले में रेत खनन जोरो पर है। सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बावजूद यंहा खनिज माफिया खुलेआम नियमों की धज्जिया उडा रहे है ।सरकारी नियमों की जरा भी परवाह नहीं करते हुए माफिया महानदी की रेत का अवैध उत्खनन कर रहे है। जिसमे मशीनो का जमकर इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे स्थानीय लोगो को रोजगार नही मिल रहा है। इसी के चलते क्षेत्र के ग्रामीणों में काफी आक्रोश है।