breaking news New

चिरमिरी परियोजना का महिला बाल विकास आखिर कैसे बना भ्रष्टाचार का गढ़

चिरमिरी परियोजना का महिला बाल विकास आखिर कैसे बना भ्रष्टाचार का गढ़

कोरिया, 20 नवंबर। जिले का महिला बाल विकास विभाग चिरमिरी काफी सुर्खियों में रह रहा है यहां की परियोजना अधिकारी भी एक ही स्थान पर लम्बे समय से पदस्थ होने के कारण काफी चर्चा में रहती है और पूरे परियोजना को मनमाने तरीके से संचालित कर रही है। इस परियोजना में पदस्थ परियोजना अधिकारी का कार्यालय महज एक कंप्यूटर आपरेटर के एवं एक सेक्टर सुपरवाइजर के सहारे संचालित हो रहा है जिसके कारण इस कार्यालय में भ्रष्टाचार भी चरम पर है, वहां की आंगनबाड़ी कार्य कर्ता परियोजना अधिकारी की रसूख का जोरदार शिकार हो रही है,हालत ऐसे है कि चाहे विभागीय खरीद दारी हो या फिर विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन में अपनी हिस्सेदारी भी बडी  दबंगता से बेखौफ किया जा रहा है। वसूली का तो पिछले  पांच छ: वर्षों का शानदार अनुभव का पूरा लाभ उठा रहे हैं।

इस चिरमिरी महिला बाल विकास कार्यालय मे बाबू की पदस्थापना होने के बाद भी कंप्यूटर आपरेटर ही कार्यालय का संचालन करता है और ये कार्यालय संचालन का कार्य भी परियोजना अधिकारी के जानकारी मे किया जा रहा है तो क्या इससे कार्यालय कि गोपनीयता भंग नहीं हो रही हैऔर एक दैनिक वेतन भोगी से कार्यालय के गोपनीय कार्यों को कराया जाना उचित है ऐसे कई तरह के कार्य चिरमिरी के महिला बाल विकास विभाग में हो रहे हैं वो भी परियोजना अधिकारी के सह पर अगर समय रहते इस पर रोक नहीं लगी तो कार्यालय कि गोपनीयता भंग होने का खतरा बना रहेगा।

आपको ये जानकारी तो होगी कि इससे पूर्व में पदस्थ जिला महिला बाल विकास विभाग के कार्यक्रम अधिकारी के  कुशल कार्यशैली और विभाग की योजनाओं के क्रियान्वयन सहित महिला सशक्तिकरण और अन्य योजनाओं की हर पहलुओं की जिम्मेदारी पूर्वक बातें हमेशा शीर्ष पर देखी जाती थीं जो आज किसी भी परियोजना में नहीं दिखाई दे रही है और विभागीय योजनाओं की जमीनी हकीकत कुछ और बया कर रही हैं।

चिरमिरी परियोजना का महिला बाल विकास का कार्यालय भ्रष्टाचार का गढ बनता जा रहा है यहां की आगनबाड़ी कार्य कर्ता इतनी डरी हुई हैं कि कोई भी चिरमिरी परियोजना के संबंध में कुछ कहने से डरती है इन्हें इतना भयभीत होकर कार्य करना पड रहा है इस परियोजना में ऐसे कई मामले है अगर इनकी जाच होता सामने आ सकते हैं?